बीवी का बिस्तर सहेली ने गरम किया भाग-1

हाय दोस्तों, मेरा Antarvasna नाम अरुण है और Kamukta मैं 28 साल का हूँ मैं कानपुर का रहने वाला हूँ यहाँ पर मैं एक कम्पनी में हार्डवेयर इंजीनियर का काम करता हूँ और मैं शादीशुदा भी हूँ दोस्तों मैं अपने फुर्सत के समय पर आप सभी की तरह कामलीला डॉट कॉम वेबसाइट पर कहानियाँ पढ़ता हूँ और मुझे इस वेबसाइट की सभी कहानियाँ बहुत अच्छी लगती है दोस्तों अभी कुछ समय पहले ही मेरे साथ भी कुछ ऐसा हुआ कि जिसे मैं आप सभी को बताने से अपने-आप को नहीं रोक पाया और उस घटना को एक कहानी का रूप देकर आप सभी के सामने लेकर आया हूँ आशा करता हूँ कि आप सभी को यह जरूर पसंद आएगी।

दोस्तों आज की मेरी यह कहानी मेरी बीवी की एक सहेली की है मेरी बीवी और वह दोनों एक साथ एक ही ऑफीस में काम करती है मेरी बीवी की सहेली हमारे पडौस में ही रहती है और उसका नाम प्रीती है प्रीती एक बहुत खूबसूरत लड़की है उसका रंग एकदम गोरा, लम्बे-लम्बे बाल और बहुत ही सुन्दर शरीर है मैं जब भी प्रीती को देखता हूँ मेरा लंड खड़ा हो जाता है और मैंने कितनी ही बार उसके नाम की मूठ भी मारी है प्रीती एक कुँवारी लड़की है एक दिन मेरी बीवी ने मुझको कहा कि मेरी सहेली प्रीती का कंप्यूटर खराब हो गया है तुम कुछ कर सकते हो क्या? प्लीज़ उसकी मदद कर दो मैं भी ऐसे ही किसी मौके की तलाश में था और मैंने फ़ौरन बीवी से कहा कि अपनी सहेली प्रीती से कह देना कि अपना कंप्यूटर हमारे घर पर ले आये मैं उसके कंप्यूटर को ठीक कर दूँगा।

फिर उसी शाम को प्रीती अपना कंप्यूटर हमारे घर पर ले आई फिर मैंने उसको चेक करके देखा तो पता चला कि उसके कंप्यूटर में कुछ खराबी आ गई है तो मैंने प्रीती को यह बात बता दी और कहा कि आपके कंप्यूटर को पूरा फॉर्मेट करना पड़ेगा और मैंने फिर उससे यह भी पूछा कि इसमें कोई खास काम की फाइल तो नहीं है ना जिसका बैकअप लेना हो तो प्रीती बोली कि कुछ फाइल माय डॉक्युमेंट के फोल्डर में है हो सके तो उनका बैकअप कर लेना फिर सबसे पहले मैंने उसके कंप्यूटर का सारा डाटा अपने कंप्यूटर में ले लिया और उन फाइलों को देखने लगा तो मुझको एक हिडन फाइल में कुछ नंगी तसवीरें मिली और साथ में करीब 40-50 हिन्दी सेक्सी कहानियां भी मिली जिनको मैंने अपने कंप्यूटर में कॉपी कर लिया और फिर उसके कंप्यूटर को फॉर्मेट कर दिया उसके बाद मैंने उसकी सब फाइल अपने कंप्यूटर से वापस उसके कंप्यूटर पर कॉपी कर दी और साथ में अपने कंप्यूटर से मेरे कुछ पोर्न फ़िल्में और कहानी की फाइल भी कॉपी कर दी यह सब करने में मुझको करीब 2-3 घंटे लग गये और इस दौरान प्रीती मेरी बीवी से बातें करती रही।

फिर मैंने सब काम खत्म करने के बाद प्रीती को बुलाया और उसे उसके कंप्यूटर को चेक करने के लिए कहा वह मेरे कमरे में मेरी बीवी के साथ आई और बोली कि अगर आपने किया है तो सब ठीक ही होगा तो मैंने कहा कि हाँ मेरे ख्याल से तो आपका कंप्यूटर अब बिल्कुल ठीक है और फिर से आपको कोई दिक्कत नहीं होगी और फिर मैंने अपनी बीवी को कंप्यूटर साफ करने के लिए उसकी हेयर ड्रायर लाने को बोला और फिर जैसे ही मेरी बीवी कमरे के बाहर गई मैं प्रीती से बोला कि आपकी सभी फाइल उसी फोल्डर में है और आपके कंप्यूटर में कुछ तसवीर भी थी और मैंने उनको भी आपके कंप्यूटर में फिर से कॉपी कर दिया है फिर मैंने उसके कंप्यूटर पर वह तसवीर की फाइल खोल दी उन तसवीरों को देखकर वह बहुत हैरान हो गई और तब मैंने उससे कहा की आपका कलेक्शन बहुत ही अच्छा है खास कर कहानियों का फिर मैंने आपके कंप्यूटर से आपका कलेक्शन अपने कंप्यूटर पर कॉपी कर लिया है आशा करता हूँ कि आपको बुरा नहीं लगा हो मेरी इन सब बातों को सुनकर वह शरमा गई और मुझसे अपनी नज़रें चुराने लगी और अपनी नज़र को झुकाते हुए बोली कि प्लीज़ यह बात आप किसी और से मत कहना उसकी ज़ुबान बोलते समय कुछ लडखडा रही थी तो मैंने उससे कहा कि आप बिल्कुल भी चिन्ता मत करिए मेरे पास भी ऐसी बहुत सी तसवीरें और कहानियां है और उनमें से कुछ तो मैंने आपके कंप्यूटर में कॉपी भी कर दी है फिर मैंने उसको अपने कंप्यूटर स्क्रीन पर देखने को कहा तब प्रीती बोली प्लीज़ वह (मेरी बीवी) आ रही है अब कंप्यूटर को बंद कर दो।

फिर मैंने कंप्यूटर की धूल को हेयर ड्रायर से साफ कर दिया और फिर वह अपने कंप्यूटर को लेकर चली गई लेकिन उसके जाने से पहले मैंने उसको धीरे से कह दिया था कि क्या हम लोग अपनी कहानियों और तस्वीरों के संग्रह को एकदूसरे से बदल सकते है क्या? मुझको कुछ और कहानियाँ चाहिए और बदले में मैं आपको तसवीरें दे दूँगा तो वह कुछ बोली कि नहीं और चली गई।

और उसके बाद वह हमारे घर पर करीब एक हफ्ते तक नहीं आई और करीब एक हफ्ते के बाद जब वह हमारे घर पर आई तो मैंने ही दरवाजा खोला लेकिन वह मुझसे बिना नज़रे मिलाए ही अन्दर चली गई और मेरी बीवी के पास जाकर बैठकर उससे बातें करने लगी और फिर कुछ देर के बाद मेरी बीवी मेरे कमरे में आई और बोली प्रीती कह रही है की उसको एक फाइल चाहिए और वह अपना एक पेन-ड्राइवर दे गई है तो मैं फ़ौरन बात को समझ गया और बोला कि उसको रुकने के लिए बोलो और मैं अभी फाइल को कॉपी कर देता हूँ और फिर जैसे ही मेरी बीवी बाहर गई तो मैंने उसके पेन-ड्राइवर को अपने कंप्यूटर में लगाकर खोला और पाया की उसमें कुछ हिन्दी सेक्सी कहानियां है तो मैंने उन कहानियों को अपने कंप्यूटर पर कॉपी कर लिया और मेरे कंप्यूटर पर से कुछ नंगी तस्वीरों की फाइल प्रीती के पेन-ड्राइवर में भी कॉपी कर दी उसके बाद मैंने एक टेक्स्ट फाइल उसके पेन-ड्राइव में बनाकर लिखा धन्यवाद मैंने आपकी कहानियां पढ़ी है और वह कहानियाँ बहुत ही अच्छी और सेक्सी है और आपको मेरी भेजी तसवीरें कैसी लगी? और फिर मैं उसके पास गया और उसको उसका पेन-ड्राइव दे दिया उसके बाद काफी दिनों तक वह हमारे घर पर नहीं आई और मेरी बीवी ने मुझको बताया कि प्रीती को बुखार हो गया है और वह छुट्टी पर है फिर एक दिन खबर मिली कि मेरे ससुराल में किसी की मौत हो गई और मेरे ऑफीस में कुछ ज्यादा ही काम होने की वजह से मुझको छुट्टी नहीं मिल सकी तो हमने सोचा कि मेरी बीवी ही अपने मायके चली जाएगी तो मैं उसी सुबह मैं बीवी को रेल्वे स्टेशन छोड़ने चला गया और उसके जाने के बाद मैं घर वापस आ गया हम लोगों को सुबह-सुबह जाते समय प्रीती ने देख लिया था और जैसे ही मैं घर वापस आया तो वह हमारे घर पर पूछताछ करने आ गई तो मैंने दरवाजा खोला और मुझको देखते ही वह शरमा गई फिर मैंने उसको हाय बोलकर अन्दर आने के लिए बोला अपने खाली घर में प्रीती को अकेली देखकर मेरा लंड अब धीरे-धीरे खड़ा होना शुरू हो गया था फिर प्रीती ने मेरी बीवी के बारे में पूछा तो मैंने उसको सारी बात बता दी मेरी बात को सुनकर और यह जानकर की मेरी बीवी घर पर नहीं है तो वह घबरा गई और मुझसे बोली कि ठीक है तो अब मैं चलती हूँ मैं फिर कभी आऊँगी और फिर वह मुझको अपना पेन-ड्राइव देकर बाहर जाने के लिए घूमी तो मैंने उसको कहा कि सुनिए इस पेन-ड्राइव से आपकी फाइल को मैं अभी कॉपी कर लेता हूँ और आपको भी अपने कंप्यूटर से कुछ फाइल कॉपी करके दे देता हूँ तो वह बोली कि मैं बाद में ले लूँगी मैं यह मौका छोड़ना नहीं चाहता था तो मैंने उससे पूछा कि आप मुझसे डरती है क्या? तो उसने कहा कि नहीं-नहीं, असल में मुझे घर में कुछ काम करना है तो मैंने उससे कहा कि अब तक सुबह के 10 बज चुके है और मुझे मालूम है कि अब घर पर कोई काम नहीं है।

और आप मुझसे डर रही है लेकिन उसने कोई जवाब नहीं दिया और अपना चेहरा दूसरी तरफ घुमाकर मुझसे नज़रे चुराने लगी तो मैंने उसको कहा कि आपके आने के पहले मैं चाय बना रहा था चलिए हम लोग साथ बैठकर चाय पीते है।

और मैं फाइल को भी कॉपी कर लेता हूँ और उसके कुछ कहने के पहले ही मैंने घर का दरवाजा बंद कर दिया और उसको बोला कि आओ बैठो मैं चाय लेकर आता हूँ और फिर हम मिलकर चाय पियेगें।

अब तक मैं यह तो समझ गया था कि उसको मेरे साथ रहना पसंद है तो मैं प्रीती को हमारे कमरे में लाया और अपने कंप्यूटर को चालू कर दिया और मैंने उसके पेन-ड्राइव को अपने कंप्यूटर में लगाया और उसमें से सेक्सी कहानियाँ कॉपी करने लगा मैंने उसको बैठने के लिये एक कुर्सी दी और बैठने के लिये कहा और वह उस कुर्सी पर बैठ गई अब मैंने अपने कंप्यूटर पर अपनी तस्वीरों का कलेक्शन निकाला और उससे बोला कि मैं चाय लेकर आता हूँ तब तक आप अपनी पसंद की फाइल को कॉपी कर लेना और फिर मैं उस कमरे से निकलकर किचन में गया और 2 कप चाय बनाने लगा और जब मैं चाय बनाकर वापस आया तो वह मेरे कंप्यूटर से तस्वीरों को कॉपी कर रही थी और कंप्यूटर स्क्रीन पर जो तस्वीर लगी थी उसने जैसे ही मुझको देखा तो वह जल्दी से तस्वीर को बंद करने लगी उस तस्वीर की कॉपी चल रही थी इसलिए वह बंद नहीं हुई।

अब वह घबरा गई और शरम के मारे फ़ौरन उसने अपने हाथ से अपना चेहरा अपने दोनों घुटनो के बीच में छुपा लिया फिर मैंने आगे बढ़कर चाय को टेबल पर रख दिया और उसके कंधो को पकड़कर उसको कुर्सी से उठाया तो वह ज़ोर लगाकर मेरे हाथ को हटाना चाहती थी लेकिन मैंने भी ज़ोर लगाकर उसको कुर्सी से उठा लिया तो वह अब मेरे सामने अपने हाथों से अपने चेहरे को छुपाकर खड़ी हो गई तो मैं उसको खींचकर अपने पास ले आया और उसको अपनी बाहों में भर लिया तो उसका शरीर कांप रहा था और उसकी साँसे भी उखड़ रही थी फिर मैं उसकी गर्दन और कान के पीछे किस करने लगा और उसके कान पर मुहँ लगाकर उससे धीरे से बोला कि प्रीती तुम बहुत ही सुन्दर हो और इसके साथ ही मैंने उसके कान को अपनी जीभ से चाटना शुरू कर दिया और वह मेरी बाहों में खड़ी-खड़ी कांप रही थी फिर मैंने उसके चहेरे को अपने हाथों से ऊपर किया और उसके चहेरे से उसके हाथों को हटाया वह बहुत ज्यादा शरमा रही थी उसकी आँखें बंद थी और उसके होंठ आधे खुले हुए थे तो मैंने अब अपने होठों को उसके होंठों पर रख दिया और उसके मुहँ में अपनी जीभ डाल दी और उसको फिर से अपनी बाहों में भरकर खींच लिया उसने भी अपने चहेरे से अपने हाथों को हटाकर अब मुझको जकड लिया था और उसने भी अपनी जीभ मेरे मुहँ में डाल दी थी।

फिर मैंने अपना एक हाथ उसकी उभरी हुई गांड पर लेकर उसको अपने और भी पास खींच लिया और मेरा लंड भी अब तक पूरी तरह से तन चुका था और उसकी जांघों के बीच में घुसना चाह रहा था फिर उसने मेरी जीभ को अपने दाँतो से हल्का सा काट लिया और अपने होंठ मेरे होठों से हटाकर मेरी गर्दन पर भी काट लिया और काँपती हुए आवाज़ में वह मुझसे बोली कि अगर तुम्हारी बीवी को यह बात पता चल गई तो? फिर मैनें उसके गालों को चूमते हुए बोला कि हम लोग यह बात किसी से भी नहीं कहेंगे।

फिर मैंने उससे पूछा कि तुम मुझसे इतना क्यों डरती हो तो उसने कहा कि मुझे मालूम नहीं फिर मैं अपना एक हाथ उसके बब्स पर रखते हुए बोला कि मुझे मालूम है कि तुम मुझसे इतना क्यों डरती हो तुमको डर इस बात का है कि कहीं मैं तुमको चोद ना दूँ मैं कुछ देर चुप रहने के बाद उससे बोला कि क्या मैं सही बोल रहा हूँ? तो वह एक लम्बी सांस लेने के बाद अपना सिर हिलाकर हाँ बोली अब मैं अपना एक हाथ उसके ब्लाउज के ऊपर ले जाकर उसके बब्स को पकड़कर मसलने लगा उसके बब्स बहुत सख़्त थे और उसकी निप्पल खड़ी हुई थी और मैंने उसके बब्स को कसकर दबाते हुए उसके होठों को पागलों की तरह चूमने लगा उसने भी मेरे मुहँ में अपनी जीभ डाल दी तो मैंने उसकी जीभ को थोड़ी देर के लिए चूसा और फिर बोला कि प्रीती मेरे लंड को अपने हाथों में एकबार पकड़कर देखो ना कि वह कैसे तुम्हारी चूत में घुसने के लिए पागल हुआ जा रहा है और इतना कहने के बाद मैंने भी अपनी पेन्ट उतार दी।

पहले तो मेरा लंड देखकर प्रीती कुछ सकपका गई लेकिन थोड़ी देर के बाद उसने मेरे लंड को अपने हाथों से पकड़ लिया उसने जैसे ही मेरे लंड को अपने हाथों में पकड़ा तो उसकी झुर-झुरी छुट गई और उसको अपने दूसरे हाथ से नापते हुए बोली कि यह तो बहुत ही लम्बा और मोटा लंड है इसको तुम्हारी बीवी कैसी लेती होगी अपनी चूत के अन्दर तो मैंने उसको कहा कि प्रीती को शुरु में थोड़ा सा दर्द तो हुआ था फिर उसको अब रोज़ ही मेरा लंड लेने कि आदत सी हो गई है फिर प्रीती अब मेरे लंड को अपने एक हाथ से पकड़कर मसलने लगी और फिर उसने धीरे से बोला कि मेरी चूत भी इस लंड को लेने के लिए बेकरार है अब जल्दी से मुझको चोद दो और फिर उसने मेरे लंड पर से अपना हाथ हटाकर मेरी शर्ट को भी उतारना शुरू कर दिया और मैंने भी उसके ब्लाउज और ब्रा को उतार दिया और उसके बब्स को नंगा कर दिया और फिर मैंने उसकी साड़ी और पेटिकोट और पैन्टी को भी उतार दिया अब वह मेरे सामने बिल्कुल नंगी खड़ी थी कसम से क्या सेक्सी लग रही थी वह फिर मैंने उसको बोला कि प्रीती अगर तुम जैसी लड़की मुझे पहले मिल जाती तो मेरा जीवन तो धन्य हो जाता और फिर उसने मेरे लंड को फिर से अपने हाथों से पकड़ लिया और मेरे लंड को अपनी चूत की तरफ करनी लगी और मैं भी अब उसकी चूत को अपने हाथों से मसलने लगा तो उसकी चूत में से हल्का-हल्का सा पानी निकल रहा था मैंने उसकी चूत में अपनी दो ऊँगली एक साथ डाल दी और ऊँगली को उसकी चूत के अन्दर बाहर करने लगा।

दोस्तों मैं आज की कहानी को यहीं पर विराम देना चाहता हूँ इस कहानी का अगला और अंतिम भाग लेकर जल्द ही आपके सामने आऊंगा तब तक के लिये मुझे दिये गये आपके अनमोल समय के लिये आपका बहुत-बहुत शुक्रिया।

धन्यवाद मेरे प्यारे पाठकों !!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *