चूत के बैंक में खाता खुलवाया

हाय दोस्तों, Antarvasna मेरा नाम नितिन है Kamukta और मेरी उम्र 23 साल की है और मैं राजकोट का रहने वाला हूँ मैं रोजाना जिम जाता हूँ और उससे मेरा शरीर बहुत ही अच्छा और फिट है दिखने मैं एकदम सुन्दर हूँ मेरी लम्बाई भी 5.8 फुट है और मुझे क्रिकेट खेलना बहुत पसंद है मेरे घर में मेरे मम्मी-पापा और मैं ही हूँ। क्रिकेट के साथ मुझे कामलीला डॉट कॉम पर कहानियाँ पढ़ना भी बहुत ज्यादा अच्छा लगता है और इस वेबसाइट पर मेरी यह पहली सेक्स कहानी है जो मैं आपको लोगों को सुनाने जा रहा हूँ यह घटना मेरे साथ आज से 1 साल पहले हुई थी।

अब मैं आप लोगों का ज्यादा समय ना लेते हुए सीधा अपनी कहानी पर आता हूँ जो कि कुछ इस प्रकार से है…

आप यह कहानी कामलीला डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

मैं बड़े दिनों की छुट्टियों में मेरे मामाजी के यहाँ घूमने गया था वहाँ मेरे बहुत सारे जिगरी दोस्त भी थे क्योंकि मैनें अपने स्कूल की पढ़ाई मेरे मामा के यहाँ रहकर ही करी थी एक दिन मैं मेरे वहाँ के स्कूल के प्रिन्सिपल सर को उनके बेटे से जो कि मेरा एक बहुत अच्छा दोस्त है उससे मिलने गया उसकी शादी हो चुकी थी और उस समय उसके घर में सिर्फ़ मैडम और उनकी बहू और उनकी बेटी ही घर में थे वह लोग मुझे देखकर बहुत खुश हुए और मेरे पापा-मम्मी के बारे में पूछा सर और मैडम दोनों ही मुझे बहुत प्यार करते है खास करके मैडम मुझे बहुत प्यार करती है फिर उन्होंने मुझे अन्दर बुलाया और बैठने को बोला।

और फिर मैडम चाय बनाने के लिए किचन में चली गई अब मैं और उनकी बेटी हम दोनों बैठकर बातें करने लगे तो उसने बोला कि तू तो बहुत सुन्दर हो गया है और मोटा भी। और फिर उसने बातों ही बातों में मुझसे मेरी गर्ल फ्रेंड के बारे में पूछा पर मैंने कुछ नहीं बोला और थोड़ा सा मुस्कुराकर चुप हो गया और मुझे थोड़ा-थोड़ा यह भी याद है कि जब में उनके स्कूल में पढ़ रहा था तब में उनके घर पर कोचिंग भी जाता था और हम साथ में खेलते भी थे इस बीच वह मुझे अपने बब्स पकड़ने देती थी और उस दिन भी मैंने उनके बब्स को पकड़ लिया तो वह बोली कि यह क्या कर रहे हो तुम तो मैं बोला कि तुम मुझे बचपन में भी तो अपने बब्स दबाने देती थी तो अब क्यूँ नहीं तो वह बोली कि तब तो हम छोटे थे पर अब तुम बड़े हो गये हो अब यह सब ठीक नहीं है उनकी बात को सुनकर मैं कुछ नहीं बोला और चुप हो गया और उसने मुझे एक ऑफर दिया और बोला कि अगर तुमको बब्स पकड़ने और दबाने का ज्यादा शोक है तो तुम मेरा एक काम करो मेरी एक बहुत ही खास सहेली है जिसके कोई बच्चा नहीं है तो तुम्हें उसकी मदद करनी है मतलब मेरी सहेली को तुम्हें चोदना है और उसको माँ बनाना है वह तुम्हें उसके बदले में पैसे भी दे देगी क्यूँकी उसके पति के वीर्य में शुक्राणुओं की संख्या बहुत कम है मैं उसकी यह बात सुनकर एकदम सन्न हो गया।

फिर वह मुझे समझाने लगी और उनके घर जाने के लिए बोला और उसको भी फोन करके बोल दिया कि तेरा काम हो गया मैं मेरे एक दोस्त को तेरे पास भेज रही हूँ और फिर उसने मुझे उसका नंबर दे दिया और फिर 3-4 दिन के बाद मैं उसके घर गया और उसके पति 7 दिन पहले ही किसी काम के सिलसिले में 6 महीने के लिए बाहर गये थे मैं उसके घर पर गया और देखा कि क्या घर था उनका मैं तो एकदम से चौंक गया था क्यूंकि वह इतना बड़ा घर था जिसमें बड़ी-बड़ी कारें और स्विमिंगपूल, गार्डन सब कुछ था उस घर में। मैंने जब उनको देखा तो देखता ही रह गया वह क्या लग रही थी उसका नाम विध्या था और वह 27 साल की थी और उसका फिगर भी बहुत सेक्सी था 32-28-34 के आस-पास था और वह बहुत गोरी भी थी उसने बहुत गरम जोशी के साथ मेरा स्वागत किया और फिर हम बातें करने लगे उसके बाद हम उसके घर के अन्दर गये वहां पर कोई नहीं था उसके और मेरे सिवा। हम दोनों अपनी-अपनी शर्तों पर राजी थे उसके बाद हम उसके बेडरूम में गए तो मैनें देखा कि वह क्या कमरा था पूरा सारी सुख सुविधाओं से भरा हुआ और बहुत ही सुंदर। अब उसने एसी चालू किया और फिर हमने अपना खेल खेलना शुरु किया उस वक्त वह नीली जीन्स और सफ़ेद टी-शर्ट में थी मैंने उसे गले से लगाया और किस करने लगा वह भी मुझे किस करने लगी किस करते हुए मैं उसके गोरे-गोरे बब्स पर हाथ घुमाने लगा उसके बब्स मोटे और एकदम टाईट थे उनको देखकर तो मेरे मुहँ में भी पानी आ गया था और मेरा लंड फन-फनाने लगा तो फिर मैं उसके बब्स को कपड़ों के ऊपर से ही दबाने लगा। मैं तो झट से ही उत्तेजित हो गया था क्योंकि मुझे तो ऐसा मक्खन माल मेरे जीवन में पहली बार मिला था मेरा उसको चोदने का सपना पूरा होने जा रहा था और फिर मैं उसके कपड़ों को उतारने लगा।

मैनें उसके कपड़े उतारे और फिर उसको देखा तो वह क्या लग रही थी पूरी तरह से सेक्स से भरी हुई काम की देवी लग रही थी जो पूरी तरह से दूध जैसी सफेद थी और मैं उसके बब्स को जोर-जोर से दबाने लगा और उनको अपने मुहँ में लेकर चूसने लगा जिससे वह लाल हो गए थे और मैंने उसके होठों पर किस भी किया और धीरे-धीरे उसकी चूत पर हाथ फेरने लगा और फिर मैं उसकी चूत की तरफ गया और उसे देखा तो उसकी चूत एक कच्ची कली की तरह थी फिर थोड़ी देर अपलक उसकी चूत के दर्शन किये उसकी चूत से थोड़ा-थोड़ा पानी चमक रहा था और फिर मैं उसको अपने मुहँ में लेकर उसे चूसने लगा जिससे वह जोर-जोर से आहें भरने लगी और अआआ…ऊह्ह्ह… करने लगी करीब 10 मिनट तक उसकी चूत की चुसाई के बाद वह झड़ गई और अब में उठा और अपने 7“ के लंड को उसके हाथ में देकर उसको चूसने को बोला तो उसने मेरा लंड अपने मुहँ में ले लिया और उसे अपने नरम और गुलाबी होठों के बीच में लेकर बड़े ही चाव से चूसने लगी फिर 5-7 मिनट के बाद मेरा लंड अब गरम होने लगा तो फिर मैंने अपने लंड को उसके मुहँ में से निकाला और उसकी दोनों टाँगों के बीच में आकर अपने हाथ से उसकी चूत को थोड़ा सा खोला और अपना लंड उसकी चूत में घुसाने की कोशिश की और एक बहुत ही जोर का झटका लगाया तो मेरा लंड पूरा का पूरा ही उसकी चूत में चला गया तो वह दर्द से बिलबिला उठी तो मैं उसे थोड़ा शांत करते हुए उसके होठों पर किस करने लगा और फिर 5 मिनट के बाद अपने लंड को उसकी चूत में अन्दर-बाहर करने लगा और फिर जब वह थोड़ी शांत हुई तो उसे भी मज़ा आने लगा दोस्तों मुझे तो बहुत मज़ा आ रहा था उसकी चूत में मेरा लंड बहुत ही टाईट जा रहा था और कमरे में छप-छप की आवाजें भी आ रही थी और वह आईईइ… ओह्ह्ह्हह… उफ्फ्फफ… कर रही थी और वह भी अपनी कमर को हिला-हिलाकर मेरी चुदाई का मज़ा ले रही थी उसकी चूत टाईट होने की वजह से उसको थोड़ा दर्द भी हो रहा था करीब 15-20 मिनट की ताबड़तोड़ चुदाई के बाद अब मैं झड़ने वाला था और वह भी तो। फिर मैंने अपनी चोदने की स्पीड को बढ़ाया और जल्दी ही उसकी चूत में अपना पूरा वीर्य छोड़ दिया हम दोनों एक साथ ही झड़े और मैंने उसकी चूत की गहराईयों में अपना गाढ़ा वीर्य भर दिया और कुछ देर तक ऐसे ही उसके ऊपर ही लेटा रहा फिर 30 मिनट के बाद हम लोग उठे तो मेरा लंड फिर से खड़ा हो चुका था तो हम लोग एकबार फिर से चुदाई करने लगे और उसकी चूत को चोद-चोदकर मैनें एकदम टमाटर की तरह लाल कर दिया था उसकी चूत में से थोड़ा सा खून भी निकला था पर उसे मेरी चुदाई से खूब मज़ा आ रहा था और मैं एकबार फिर से उसकी चूत में ही झड़ गया था उसके बाद मैंने उसको करीब 15-20 दिनों तक चोदा था दोस्तों मैंने उसकी चूत से कई बार अपनी ऊँगली करके भी पानी निकाला था उसकी गांड की ठुकाई भी बहुत की जिससे उसकी गांड भी फैलकर और भी बड़ी हो गई थी।

मैनें उसको करीब 20 दिनों तक चुदाई करने बाद गर्भवती किया और 9 महीने के बाद जब मैं अपने गाँव में गया तो उसका फ़ोन आया तो वह बोली कि एक बेटा हुआ है जो कि दिखने में पूरा तुम्हारी तरह ही है और फिर मैं अगले दिन वहाँ गया और देखा कि वह बहुत खुश थी और मैं भी बहुत खुश था क्यूँकी वह मेरा बेटा था उसके पति ने भी जब यह खबर सुनी तो वह भी तुरंत आ गया वह तो यही समझता था कि ऊपर वाले ने उसकी सुन ली और वह उसका ही बेटा है।

उसका पति फिर से बाहर चला गया अपने बिजनस के सिलसिले में और मैं अक्सर अब उसके घर पर ही रहता हूँ और उसे जी भर के चोदता हूँ हम दोनों घर पर नंगे ही रहते है और मेरे खाते में अब बहुत सारे पैसे है क्यूँकी विध्या जैसा बैंक मेरे पास है और मैं दूसरे बच्चे के लिए सोच रहा था लेकिन उसने मुझे मना कर दिया और बोली अब मैं दुबारा गर्भवती हो गई तो मेरा पति मुझ पर शक करेगा और मैंने भी सोचा यह भी ठीक बात है लेकिन मुझे अब हर दिन मशीन चलाने को मिल रही है वह एक बच्चे की माँ होते हुए भी बहुत सेक्सी लगती है।

धन्यवाद मेरे प्यारे पाठकों !!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *