बॉस की लड़की ने बजाई लंड की घन्टी

हाय फ्रेंड्स Antarvasna मेरा नाम वैभव Kamukta है और मेरी उम्र 27 साल की है दोस्तों मैं दिखने में काफी स्मार्ट लगता हूँ और मैं बैंगलोर में एक आई.टी.कम्पनी के ऑफिस में इंजीनियर के पद पर काम करता हूँ ऑफिस में मेरे पास ज्यादा काम नहीं रहता इसलिये मैं अपने खाली समय पर अपने केबिन में बैठकर कामलीला डॉट कॉम वेबसाइट पर सेक्सी कहानियाँ पढ़कर अपना समय गुजारता हूँ ऑफिस में मेरे बॉस मेरे काम से काफ़ी संतुष्ट रहते थे क्योंकि मेरे पास काम तो कम ही रहता पर जो भी रहता उस काम को मैं सही समय पर पूरा करता हूँ इसलिए ऑफीस में बॉस बहुत पसंद करता है। हाँ तो मेरे प्यारे दोस्तों अब मैं अपनी असली कहानी पर आता हूँ…

दोस्तों एक दिन मेरे बॉस ने मुझे अपने घर पर शाम के खाने के लिए बुलाया था और मैं उनके घर एक अच्छा सा उपहार लेकर गया तो बॉस ने मेरा अभिवादन किया और मुझे अन्दर बुलाया और अपने परिवार के सभी सदस्यों से मेरा परिचय करवाया उनके परिवार में कुल 4 ही सदस्य थे बॉस और बॉस की एक खूबसूरत बीवी, और दो बच्चे बॉस की बेटी का नाम जूही था जो कॉलेज में पढ़ती थी वह 24 साल की थी और उनका बेटा छोटा था जो 12 वीं में पढ़ता था दोस्तों जब मैंने अपने बॉस की बेटी जूही को देखा तो मैं तो उसे देखता ही रह गया. क्योंकि वह दिखने में अपनी माँ से बढ़कर बहुत ही खूबसूरत थी और उसका फिगर भी एकदम कमाल का था वह उस समय किसी महंगी गुड़िया से कम नहीं लग रही थी।

और फिर हमने बैठकर खाना खाया और बहुत सारी बातें भी करी और फिर उस दिन के बाद भी मैं कई बार अपने बॉस के घर आता जाता रहता था इससे मेरी और बॉस की बेटी जूही की दोस्ती भी बहुत अच्छी हो गई थी मैं 3-4 बार उसके साथ फिल्म देखने भी चला गया था पर उस समय उसका छोटा भाई भी साथ रहता था दोस्तों एक बार मेरा बॉस ऑफिस के काम से दिल्ली जा रहा था और जूही को भी उसकी एक सहेली की शादी में दूसरे शहर जाना था जो कि बैंगलोर से 200 किलोमीटर दूर था और उसके छोटे भाई की भी परीक्षा होने की वजह से जूही का भाई और उसकी उसकी माँ उसके साथ नहीं जा सकती थी जूही की सहेली के पिता भी हमारी ही कम्पनी में काम करते थे इसलिए मुझे भी उस शादी बुलाया गया था तो फिर मेरे बॉस ने मुझे कहा कि तुम जूही को अपने साथ शादी में ले जाना और फिर यह तय हुआ कि हम दोनों ही साथ जाएँगे और जूही की माँ ने भी अनुमति दे दी थी कि वह मेरे साथ जा सकती है।

दोस्तों इस बार मेरे पास अच्छा मौका था मैं और जूही अकेले ही थे और हम दोनों ही कार से शादी में जाने के लिये घर से निकले थे और कार मैं ही चला रहा था और जूही मेरे बगल में ही बैठी थी मुझे तो उस समय अपनी किस्मत पर बिल्कुल भी यकीन नहीं हो रहा था कि जूही मेरे साथ अकेली है पर वह मेरे बॉस की बेटी थी इसलिए मेरी ज़्यादा कुछ करने की हिम्मत भी नहीं हो रही थी और हम एक दूसरे से केवल सामान्य बातें ही कर रहे थे फिर अचानक जूही ने गाड़ी रुकवाई और मुझसे कहने लगी कि मेरे पीछे कुछ चुभ रहा है प्लीज़ तुम देख सकते हो क्या? उसने उस समय एक लाल रंग की बहुत ही प्यारी सी साड़ी और उसी रंग का ब्लाउज पहना हुआ था।

दोस्तों एक पल के लिये तो मुझे बिल्कुल भी यकीन नहीं हुआ था कि वह मुझसे क्या बोल रही है और मैं उसके ख्यालों में डूब गया था और फिर उसने मुझसे दुबारा कहा कि तुम सुन रहे हो ना कि मैंने तुमसे क्या कहा है? तो फिर मेरा ध्यान भंग हुआ और मैंने हडबडी में हाँ बोलते हुए धीरे से उसे घुमाया और उसके पीछे देखा तो उसकी सीट पर कुछ था जौ कि उसकी पीठ पर चुभ रहा था वह मुझसे कहने लगी कि कुछ दिखा क्या मुझे बहुत चुभ रहा है? तो फिर मैं भी उस सुनहरे मौके का फायदा उठाते हुए उसकी पीठ पर अपना हाथ फेरने लगा जो उसे भी अच्छा लगा तो उसने कहा कि थोड़ा और ऊपर देखो तो फिर मैंने अपना हाथ थोड़ा और ऊपर किया और उसके ब्लाउज के ऊपर अपना हाथ ले गया तो वह कुछ नहीं बोली और मैं थोड़ी देर तक वहीं हाथ फेरता रहा और उससे पूछता भी रहा कि यहाँ चुभ रहा है क्या? तो फिर उसने कहा कि नहीं थोड़ा नीचे की तरफ साइड में देखो तो फिर मैंने अपना दूसरा हाथ उसकी कमर पर डाला तब भी वह कुछ नहीं बोली शायद वह भी मज़ा ले रही थी और उसकी आँखें भी अब धीरे-धीरे बन्द हो रही थी।

तो फिर अब मैंने थोड़ी सी हिम्मत और करते हुए अपना एक हाथ आगे किया और उसके एक बब्स को दबा दिया तो वह झट से पलट गई मुझसे कहने लगी कि यह तुम क्या कर रहे हो? तो मैंने उसको सॉरी कहा और अपनी सीट पर चला आया और गाड़ी चालू करने लगा तो फिर उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और जूही मेरे नज़दीक आ गई और मुझसे कहने लगी कि “मुझे किस करो” मैं उसके मुहँ से यह बात सुनते ही चौंक गया और फिर उसने मुझसे दुबारा कहा कि “किस मी” तो फिर क्या था मैंने झट से उसकी कमर में अपना एक हाथ डाला और उसको अपनी तरफ खींचा और उसे चूमने लगा।

और लगभग 10-15 मिनट तक मैं उसके रसीले होठों का रस पीता रहा और फिर मैं उसके ब्लाउज के ऊपर से ही उसके बब्स को दबाने लगा और फिर मैंने उससे कहा कि मैं तुम्हारे बब्स को एकबार देखना चाहता हूँ तो वह कहने लगी कि यहाँ कार में नहीं कहीं और देख लेना तो अब मैं भी समझ गया था कि आग दोनों तरफ बराबर लगी हुई है और फिर मैं उसको वहाँ से एक अच्छे से बड़े होटल में ले गया और होटल के कमरे में जाते ही मैंने उसको अपनी बाँहों में भर लिया और उसके पूरे बदन को चूमने लगा और वह भी मेरा साथ देने लग गई थी और फिर मैंने उसके ब्लाउज को उतारा तो देखा कि क्या गजब के बब्स थे उसके एकदम दूध जैसे सफ़ेद और गोरे जिनके ऊपर हल्के भूरे रंग के निप्पल एकदम कयामत ढा रहे थे मैं तो पूरी तरह से ही उसका दीवाना हो चुका था और अब मैं उसके बब्स को दबाने लगा और उनको अपने मुहँ में लेकर चूसने लगा जिससे अब वह भी उत्तेजित होने लगी और फिर थोड़ी ही देर बाद मैंने उसके सारे ही कपड़े उतार दिए और मैं भी पूरा ही नंगा हो गया था।

और फिर मैंने उसको बेड पर लेटाया और मैं भी उसके पास लेट गया और उसकी गर्दन पर कान के पास और उसके बब्स को किस करने लग गया और मैंने उसका हाथ पकड़कर अपने लंड पर रख दिया तो वह मेरा 7” लम्बे और 3” मोटे लंड को देखकर वह घबरा गई और मुझसे कहने लगी कि तुम्हारा यह तो बहुत बड़ा है मैं इसे कैसे सहन करूंगी तो मैंने जूही से कहा कि डरो मत मेरी जान पहले तुम थोड़ी देर तक इससे खेलो जिससे तुमको फिर इससे डर नहीं लगेगा और फिर मेरे समझाने पर वह मेरे लंड को अपने हाथ में लेकर उसे ऊपर-नीचे करने लगी और फिर धीरे-धीरे अपने मुँह में लेकर भी चूसने लगी और इधर मैं भी उसको चूमते हुए और भी ज्यादा उत्तेजित करता जा रहा था और फिर थोड़ी देर के बाद फिर मैंने उसकी दोनों टाँगों को फैलाया और मुहँ उसकी नरम और मुलायम मखमली बिना बालों वाली गुलाबी चूत पर रखा तो उसकी गुलाबी चूत में से पहले से ही उसकी चूत का रस रिस रहा था और फिर मैंने उसकी चूत की दोनों गुलाबी पंखुड़ियों को अपने हाथ से फैलाकर जूही की चूत के गुलाबी दाने को अपनी जीभ से सहलाने लगा तो वह धीरे-धीरे अपने मुहँ से सिसकारी निकालने लगी और अपनी दोनों जाँघों के बीच में मेरे मुहँ को अपनी चूत पर दबाकर रगड़ने लगी और फिर थोड़ी ही देर के बाद जूही ने तेजी के साथ अकड़ते हुए अपनी चूत से एक तेज नमकीन पानी की धार मेरे मुहँ पर छोड़ दी और उसकी चूत के उस कामरस को मैंने अपनी जीभ से पूरा ही चाट-चाटकर साफ़ कर दिया था और अब जूही भी मुझसे कहने लगी कि जान अब मुझे और मत तड़पाओ अब जल्दी से अपना लंड मेरी चूत में डाल दो और मुझे वह सुख दे दो जिससे मैं अभी तक अंजान हूँ।

अब मैं उसके मुहँ से यह बात सुनकर और भी जोश में आ गया और उसकी टाँगों को हवा में उठाकर फैलाया और उसकी गांड के नीचे एक तकिया लगाया और अपने लंड को उसकी कमसिन चूत के मुहँ पर रगड़ने लगा तो वह मुझसे कहने लगी कि जान अब डाल भी दो अब और सहन नहीं होता तो फिर अब मैंने पर अपना लंड धीरे से उसकी चूत के अन्दर डाला तो वह अन्दर नहीं गया क्योंकि अभी तक उसकी सील नहीं टूटी थी इसलिया मेरा लंड आसानी से अन्दर नहीं जा रहा था तो फिर मैंने उसके होठों को अपने होठों के बीच में दबाया और उसके बब्स को मसलते हुए नीचे से एक ज़ोर का धक्का लगाया तो मेरा आधा लंड उसकी चूत के अन्दर चला गया था और उसने ज़ोर से चीखने की भी कोशिश करी छोड़ दो मुझे पर मैंने उसके मुँह अपने होठों से दबा रखा था तो उसकी आवाज़ बाहर नहीं निकल सकी और उसकी आँखों से आँसू आ गए थे तो फिर मैं थोड़ी देर तक रुका रहा और फिर जब वह थोड़ी शान्त हुई तो मैंने एक और जोर का झटका दिया जिससे मेरा लंड उसकी चूत में थोड़ा और अन्दर तक गया और फिर मैं लगातार झटके देता रहा तो वह और भी तड़पने लगी पर मैं उसे चोदता ही रहा और फिर थोड़ी ही देर के बाद उसे भी मज़ा आने लगा और अब जूही भी मेरा साथ देने लगी और फिर लगभग 30-40 मिनट तक मैंने उसको चोदा और फिर मैं उसकी चूत में ही झड़ गया और वह भी मेरे साथ ही झड़ गई थी और फिर हम दोनों ही एक-दूसरे से चिपककर लेट गए।

और जब मेरा लंड उसकी चूत में से सिकुडकर बाहर आया तो मैं भी उसके ऊपर से उठा और देखा कि उसकी चूत में से मेरा वीर्य और उसकी सील टूटने से निकला हुआ खून दोनों बाहर आ रहे थे जिसको देखकर जूही डर गई थी पर मैंने उसको प्यार से समझाया तो वह समझ गई और फिर हम दोनों एक साथ बाथरूम में गए जूही से दर्द की वजह से चला नहीं जा रहा था तो मैं उसको उठाकर बाथरूम में ले गया और उसकी चूत और अपने लंड को साफ करके वापस कमरे आ गए और बेड पर आकर हम दोनों ही 69 की पोजीशन में आ गए थे और मैं जूही की पहली चुदाई से लाल हुई चूत को अपनी जीभ से चाटने लगा जिससे उसको दर्द में आराम मिला और फिर मैंने उसको चुदाई के लिए फिर से तैयार किया और उसको उस होटल में उस रात 4 बार चोदा और फिर सुबह जल्दी उठकर बाथरूम में साथ में नहाए और हम शादी में चले गये रास्ते में मैंने उसको दर्द की और आई.पिल की गोली भी दिलवा दी थी। दोस्तों आज वह मेरी गर्लफ्रेंड है और हम कई बार चुदाई भी कर चुके है।

धन्यवाद कामलीला के प्यारे पाठकों !!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *