ऑटो वाले से चुदकर उसकी पत्नी बनी

हाय फ्रेंड्स Kamukta मेरा नाम Antarvasna नीता है और मेरी उम्र 26 साल की है और मेरे फिगर का साइज़ पहले 32,28,34 था जो अब बढ़कर 36,30,36 का हो गया है और यह सब एक ऑटो वाले की मेहरबानी से हुआ है तो दोस्तों अब मैं अपनी कहानी शुरु करती हूँ जिसमें मैनें एक ऑटो वाले से बहुत बार अपनी चुदाई करवाई है और यह सब हम 2 महीनों से कर रहे थे मुझे गर्भवती होने का ख़तरा भी लगता था इसलिए मैं गर्भनिरोधक गोली ले लेती थी जिससे मुझे बाद कोई दिक्कत ना हो हम लोगों की ज़िंदगी बड़े ही मज़े से चल रही थी और जब हमको 2 महीने से ऊपर हो गए तो मेरे साथ मेरे ऑफिस में मेरे साथ जो लड़की काम करती थी उसकी शादी आ गई थी। आप यह कहानी कामलीला डॉट कॉम पर पढ़ रहे हो।

यह बात मुझे ऑफिस में मेरी सहेली ने ही बताई थी और उसने मुझे अपनी शादी में विशेष रूप से बुलाया था और मैनें भी उसे उसकी शादी में आने के लिए हाँ बोल दिया था और फिर जब मैं ऑफिस से घर जा रही थी तब मेरी वह सहेली भी भी घर जाने के लिए मेरे साथ ऑटो में बैठ गई और उस ऑटो वाले को यह देख बहुत गुस्सा आया, यह सब मैनें उसकी नज़रों में देख लिया था लेकिन मेरी सहेली ने नहीं देखा था और वह मेरे साथ अपनी शादी के बारे में बातें करने लग गई थी दोस्तों मुझे माफ़ करना मैं आपको उस ऑटो वाले के बारे में तो बताना ही भूल गई थी वह एक 45 साल का आदमी था और उसे मैंने मुझे ऑफिस ले जाने और ऑफिस से वापस घर लाने के लिए मैनें ही लगा रखा था और फिर उस ऑटो वाले ने हम दोनों को घर छोड़ा और मैं घर पर आई उस दिन थकान ज्यादा होने के कारण खाना खाकर जल्दी ही सो गई थी और अगले दिन जब मैं तैयार हो रही थी तो उस ऑटो वाले का फोन आ गया और वह बोला तुम 15 मिनट पहले घर से निकलना क्योंकि मुझे तुमसे कुछ बात करनी है तो मैं 15 मिनट पहले ही घर से निकल गई और मैं सीधा उसके ऑटो में बैठ गई और वह मुझसे बोला कि कल वह लड़की कौन थी तुम्हारे साथ में तो मैनें बोला कि वह तो मेरी सहेली है और वह बोला की उसकी शादी कब है तो मैनें बोला की 7 दिन बाद तो फिर वह बोला कि तुम शादी में जाओगी क्या? तो मैनें बोला कि हाँ मैनें ऑफिस से 3 दिन की छुट्टी ली है तब तक मैं ऑफीस नहीं जाऊँगी।

तो फिर उसने ऑटो को रोका और मुझसे बोला कि तुम शादी में नहीं जाओगी और मैनें कहा कि मैं जरूर जाऊँगी तुम कौन होते हो मुझे रोकने वाले तो फिर उसने मुझसे कुछ भी नहीं कहा और ऑटो को स्टार्ट किया और मुझे ऑफीस छोड़ा और मेरे साथ पूरे रास्ते और कोई बात भी नहीं करी और शाम को घर आते समय उसने ऑटो रास्ते में रोका और मुझसे बोला कि मैं तुझसे शादी करना चाहता हूँ तो मैनें उससे बोला कि तू पागल है क्या तू 45 साल का और मैं 26 साल की हूँ और लोग क्या कहेगें तो फिर उसने बोला कि मुझे कुछ नहीं पता तो मैनें कहा कि नहीं पता तो मैं क्या करूं तभी उसने अपना ऑटो अपने कमरे की तरफ घुमा लिया और उसके कमरे पर पहुँचकर हम दोनों उसके कमरे में घुस गए और वह अंदर जाते ही मुझको फिर से मनाने लगा पर मैं नहीं मानी उस रात हमने चुदाई भी नहीं करी और 2-3 दिन तो उसने मुझे मनाने में ही निकाल दिए पर मैं नहीं मानी फिर मैनें एक दिन उसे सुबह जल्दी बुलाया और शॉपिंग करी नई ब्रा और पैन्टी सूट वगेराह सभी के पैसे उस ऑटो वाले ने ही दिए पर उसने मुझसे कोई बात नहीं करी अब वह मुझे नज़र-अंदाज़ करने लगा था और मुझे उसकी यह बात बहुत बिल्कुल अच्छी नहीं लग रही थी।

2-3 दिन तो ऐसे ही चलता रहा लेकिन फिर मुझे उसके ना बोलने से और तकलीफ़ होने लगी और वह अब मुझे ना बुलाता था ना ही देखता था और फिर शादी के एक दिन पहले मैनें उससे कहा कि कल मैं ऑफिस नहीं आऊंगी तो उसने जवाब दिया कि तो मैं क्या करूं और फिर मुझे उसकी यह बात बहुत चुभी और मैं सीधा उसके ऑटो से उतरी और अपने घर आ गई और घर आकर मुझे नींद भी नहीं आई पता नहीं क्यों फिर अगले दिन शादी से एक दिन पहले कुछ रस्म के लिए मुझे मेरी सहेली के घर जाना था और मुझे तैयार भी होना था तो मैनें सोचा कि ऑटो वाले के घर पर ही तैयार हो जाऊँगी ताकि वह मुझसे कुछ बात भी करे और जब वह मुझे नंगी देखेगा तो कुछ ना कुछ तो जरूर करेगा ही, दोस्तों यहाँ मैं आपको एक बात और बताना तो भूल ही गई कि मैं एक कुँवारी लड़की हूँ और दिल्ली जैसे बड़े शहर में अकेली ही रहती हूँ तो फिर मैनें उसको फोन किया और बुलाया तो वह मुझे लेने के लिए आया तो मैनें रास्ते में उससे जानबूझकर बोला कि वहाँ पर तो मुझे समय मिलेगा ही नहीं तो तुम अपने घर चलो मुझे कपड़े बदलने है तो उसने अपना ऑटो अपने घर की तरफ घुमा लिया और मैं उसके कमरे में घुसी और उससे बोली कि मुझे पानी पीला दो।

तो फिर उसने मुझे पानी पिलाया और मैं पलंग से उठी और अपने सूट से दुपट्टा निकाला और साथ में अपना सूट भी उतार दिया और मैं अब सिर्फ़ ब्रा में ही थी और उसके सामने ही फिर मैनें अपनी सलवार को भी उतार दिया तो अब मैं उसके सामने ब्रा और पैन्टी में ही खड़ी थी पर उसने कोई भाव नहीं दिया पर उसका लंड खड़ा हो चुका था उसकी पेन्ट में से सब दिखाई दे रहा था पर वह आगे नहीं आया तो मैं खुद ही उसके पास चली गई और उसके गाल पर एक किस किया फिर होठों पर भी और धीरे से अपना एक हाथ उसके लंड पर ले गई और उसे पेन्ट के ऊपर से रगड़ने लग गई तो उसने मुझे धक्का दे दिया और बोला कि तुम मेरी कौन लगती हो जो मेरे साथ ऐसा कर रही हो फिर उसने मुझे एक साइड में किया और बोला कि अपने कपड़े पहनो और मैं तुमको छोड़ आता हूँ और इस पर मुझको बहुत गुस्सा आया और मैं उसके साथ झगड़ने लगी और बोली कि क्या दिक्कत है तुमको मैनें बताया ना कि हम शादी नहीं कर सकते तो एक ही बात के पीछे क्यों पड़े हो।

तब वह बोला कि किसी को दिखाना थोड़ी ना है कि हम दोनों शादी कर चुके है यह बात तो हम दोनों के बीच में ही रहेगी, फिर मैनें अपने कपड़े पहने और उसके कमरे से चली आई और मुझे शादी की रस्मों में भी कोई मज़ा नहीं आ रहा था और उस रात मैं वहाँ पर ही रुकी थी, फिर अगले दिन शादी का पूरा माहौल था लेकिन मुझको बिल्कुल भी मज़ा नहीं आ रहा था और रात को जब मेरी सहेली के फेरे होने का समय था तो मुझे पता नहीं क्या हुआ और मैं वहाँ से निकल गई और सीधा उस ऑटो वाले के घर पहुँच गई उस समय रात के 12-1 बजे के आस-पास का समय होगा मैनें उसका दरवाजा खटखटाया और 2-3 मिनट के बाद उसने दरवाजा खोला और मैनें उससे बोला कि चलो शादी करते है तो उसकी आँखें फटी की फटी ही रह गई और उसने बोला कि क्या हुआ तो मैनें फिर से कहा कि चलो हम शादी करते है तो उसने कहा कि इस समय पंडित कहाँ से मिलेगा तो मैनें कहा कि एक जगह है तो फिर उसने अपने सूटकेस में से एक नई पेन्ट-शर्ट निकाली और पहन ली।

मैं तो शादी में से ही आई थी इसलिए मैं पहले से ही सजी हुई थी और एक बात और मुझको कार चलानी आती है तो मैं अपनी एक दूसरी सहेली की कार लेकर आई थी तो मैनें उसको कार में बैठाया और एक मैरिज हॉल में ले गई वहाँ पर एक दूसरी लड़की की शादी हो चुकी थी पर हवनकुंड की आग अभी भी जल रही थी मुझको उस दिन पता नहीं क्या हो गया था, मैं सीधी मैरिज हॉल में घुस गई और मैनें पंडित को तलाश किया और उससे बोला कि मुझे अभी शादी करनी है किसी से तो. कितने पैसे लोगे, उसको पता चल गया था यह कोई ग़लत काम है पर वह लालची भी था तो उसने 11000 रुपये माँगे तो मैनें झट से हाँ कर दी और मैनें ऑटो वाले से भी कह दिया की सेहरा बाँधकर रखना जिसे कोई तुमको देख ना सके, सेहरा तो मैनें उसके के घर जाते समय ही ले लिया था और फिर पंडित आया और उसने सभी रस्मों के साथ हम दोनों की शादी करवा दी और मैनें उसको 11000 रुपये दे दिए और ऑटो वाला जो कि अब मेरा पति था।

उसको कार में बैठाकर सीधा उसके कमरे पर आ गई और मैं उसके घर में घुसी और सीधे ही पलंग पर आकर बैठ गई फिर मैनें अपने दुपट्टे का घूँघट निकाला और वह ऑटो वाला मेरे पास आया और फिर उसने मेरा घूँघट उठाया और मेरी गोद में अपना सिर रखा और बोला कि आज तुम बहुत सुंदर लग रही हो, इस बात पर मैं हँस दी फिर उसने मेरी गरदन में अपना हाथ डालकर मेरे मुहँ को नीचे की तरफ किया और हम दोनों एक दूसरे को किस करने लगे 5 मिनट तक किस करने के बाद उसने मुझसे बोला कि मुझे यकीन नहीं हो रहा कि मेरी शादी तुमसे हो गई है, मैनें अपने गले में मंगलसूत्र की जगह एक चैन डाल रखी थी और वह मेरे बब्स तक आ रही थी, वह उसको अपने हाथ से हिलाने लगा और धीरे-धीरे मेरे बब्स पर मेरे कुर्ते के ऊपर से ही हाथ फेरने लगा और उसके ऐसा करने से 2-3 मिनट में मेरे निप्पल कड़क हो गए और उसने मेरे निप्पल को मेरे कुर्ते के ऊपर से ही चूसना शुरू कर दिया, फिर मैनें भी उसके बालों में हाथ फेरना शुरू कर दिया और उसकी शर्ट के बटन भी खोल दिए थे।

फिर वह धीरे से उठा और मेरे कुर्ते को निकाल दिया और पलंग पर मुझको लेटा दिया और मेरी ब्रा के हुक को खोलकर मेरे बब्स को चूसने लगा और जिससे मेरी आँखें बिल्कुल ही बंद हो गई थी, और फिर वह मेरे नीचे आया और मेरी नाभि में अपनी जीभ डाल दी और उसे भी चाटने लगा और अपने दूसरे हाथ से मेरी सलवार का नाडा खोलने लगा और पैन्टी के ऊपर से मेरी चूत को रगड़ने लगा और धीरे-धीरे मेरी पैन्टी के अंदर अपना हाथ डालकर मेरी चूत में अपनी ऊँगली डाल दी और अंदर-बाहर करने लग गया और 5 मिनट बाद वह झट से खड़ा हुआ और अपने कपड़े भी उतार दिये और मुझे भी पूरी नंगी कर दिया और फिर बोला कि मुझे दूध तो पिलाओ, तो मैनें पूछा कि कहाँ है तो उसने दूध जहाँ पर रखा था वह जगह मुझको दिखाई तो मैनें एक गिलास में दूध भरा और उसे पिलाने लगी तो वह बोला कि पहले तुम पीओ तो मैनें कहा कि नहीं पहले आप तो वह बोला कि चलो पहले मैं ही पी लेता हूँ और उसने मुझको पलंग पर लेटा दिया और मेरी चूत पर थोड़ा सा दूध डाल दिया और पीने लगा।

वह दूध को धीरे-धीरे चूसने लग गया और उसके ऐसा करने से मैं झड़ गई और वह मेरा पानी भी दूध के साथ में ही पी गया और बोला कि बाकी का बचा हुआ दूध अब तुम पी लो और उसने दूध के गिलास में अपना लंड डाला और बोला पी जाओ अपने पति के लंड वाला दूध ओर फिर मैं वह दूध पी गई और उसने मुझको पलंग पर लेटाया और मेरी टाँगों को खोला और अपने लंड को मेरी चूत के मुहँ पर रखा और बोला कि पहले यह एक लड़की की चूत थी और अब यह मेरी बीवी की है काफ़ी सुंदर चूत है और 2-3 धक्कों में ही मेरी चूत में अपना लंड डाल दिया और मैं भी कुछ ज्यादा ही उत्सुक थी और मैं भी उसे नीचे से धक्का मार रही थी और उसका लंड मेरी चूत में बड़ी तेजी के साथ अंदर-बाहर हो रहा था और मुझे सुकून भी बहुत मिल रहा था फिर 10 मिनट के बाद उसने मुझको पलंग से नीचे खड़ा किया और एक कुर्सी के सहारे मुझको घोड़ी बना दिया और मेरे पीछे आकर अपने लंड को मेरी चूत में डाल दिया और मेरे बालों से मुझे पकड़कर चोदने लगा।

और मेरे मुहँ से मेरी आवाजें आ रही थी आअहह म्‍म्म्ममम ह्म्‍म्म्म और साथ में हमारी सांसों की गरम-गरम आवाज़ भी आ रही थी और 5-7 मिनट बाद वह पलंग पर लेट गया और मैनें उसका लंड चूसा और सीधा ही उसके लंड के ऊपर बैठ गई और ऊपर नीचे होने लगी, आज मुझको बहुत मज़ा आ रहा था और तभी वह बोला कि अब मैं झड़ने वाला हूँ और 10-15 धक्कों के बाद वह मेरी चूत के अंदर ही झड़ गया और उसका माल अन्दर जाते ही मैं भी झड़ गई तब तक सुबह के 6 बज चुके थे लेकिन तब तक मैं पूरी तरह थक चुकी थी और फिर हम दोनों ही सो गये और दिन में 2 बजे मेरी नींद खुली पर वह अभी तक सोया हुआ था तो मैनें उसे जगाया वह नंगा ही सोया हुआ था और मैं भी फिर मैनें उसकी चादर ली और अपने बब्स के ऊपर बाँध ली और वह भी उठा और उसने भी लूँगी बाँधी और फिर मैनें उसके लिए चाय बनाई और वह बोला कि आज तुम घर मत जाना दोनों पति-पत्नी की तरह एक साथ रहेगें तो मैनें कहा कि ठीक है और उसने एक मुस्कान दी और फिर हम दोनों ने चाय पी उसके बाद मैं अपने पति को कहकर अपनी सहेली के घर पर गई उसको उसकी कार वापस करने के लिये और फिर वापस आ गई।

और उस दिन हमने 3 बार और चुदाई करी और वह हर बार मेरे अंदर ही झड़ा और हमारा यह रिश्ता आजतक ऐसे ही चल रहा है।

धन्यवाद !!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *