कम्प्यूटर के बहाने से चूत की खुजली मिटाई

हाय फ्रेंड्स, आप सभी Antarvasna को मेरा और मेरी प्यासी Kamukta चूत का प्यार भरा नमस्कार दोस्तों मेरा नाम नाजिया है मेरी उम्र 25 साल है और मेरे फिगर का साइज़ 34-30-38 है और मैं हिम्मत नगर की रहने वाली हूँ और मैं आज यहाँ कामलीला डॉट कॉम पर अपनी पहली सेक्सी कहानी लिख रही हूँ वैसे तो मैं बहुत बार अपनी चुदाई करवा चुकी हूँ मेरी शादी से पहले भी और शादी के बाद भी दोस्तों मेरे पति महीने में 15 दिन ही घर पर रहते है बाकी समय वह बाहर अपने काम से दूसरे शहरों में रहते है और मैं उनके पीछे से अपनी चूत को दूसरे मर्दों से चुदवाती रहती हूँ और मैं हमेशा ही टाईट कपड़े ही पहनती हूँ जिससे मेरे बब्स और गांड उभरे हुए ही रहते है मैं एक बहुत खूबसूरत और सेक्सी औरत हूँ तो दोस्तों अब मैं अपनी असली कहानी पर आती हूँ।

दोस्तों यह कहानी आज से 7-8 महीने पहले की है जब एक दिन मैं घर पर अकेली ही थी और मेरे पति भी अपने काम से बाहर गए हुए थे और मैं काफ़ी दिनों से चुदी भी नहीं थी तो मेरी चूत में बहुत खुजली हो रही थी और फिर मैंने थोड़ी देर तक सोचा कि अपनी चूत की खुजली को किससे मिटवाया जाए और फिर मैंने अपने कम्प्यूटर की सर्विस करने वाले लड़के को फोन करके कम्प्यूटर ठीक करवाने का बहाना करके बुलाया उसका नाम सुनील है और वह करीब 22-23 साल का जवान, खूबसूरत और मजबूत शरीर वाला लड़का है।

मैं उसको फोन करके नहाने चली गई थी और मैं नहाकर वापस आई तो मैंने अपनी जाँघो तक की एक पारदर्शी नाईटी पहन रखी और मैंने उसके नीचे ब्रा-पैन्टी नहीं पहन रखी थी और फिर मैंने थोड़ा सा मेकअप भी किया और अपने बालों को खुला ही रखा और मैं उसका इंतज़ार करने लगी और फिर थोड़ी देर के बाद घर के दरवाजे की घंटी बजी तो मैंने दरवाजा खोला तो बाहर सुनील खड़ा था वह मुझे ऊपर से नीचे तक घूरने लगा तो मैंने उससे कहा कि अन्दर आ जाओ तुम्हारा ध्यान कहाँ है तो वह घबराते हुए बोला कि कुछ नहीं मैं तो कम्प्यूटर ठीक करने आया हूँ उसमें क्या खराबी हो रही है? तो मैंने कहा कि चालू नहीं हो रहा है और एकदम से बन्द हो गया है तो फिर मैंने उसको पानी पिलाया और उसको मेरे बेडरूम में ले गई और वह कम्प्यूटर को देखने लगा और मैं उसके पास में ही खड़ी हो गई और बार-बार उसके पैरों से अपने पैरों को छू रही थी और फिर मैंने जानबूझकर टेबल पर रखा एक स्क्रू नीचे गिराया और मैं नीचे झुककर उसे ढूँढने लगी जिससे मेरे पूरे के पूरे बब्स उसको साफ-साफ दिख रहे थे और फिर मैंने देखा कि वह अपनी पेन्ट में खड़े हुए लंड को छुपा रहा था और फिर थोड़ी देर में उसने कम्प्यूटर को चालू कर दिया क्यूंकी उसमें कोई खराबी थी ही नहीं।

मैंने ही जानबूझकर सी.पी.यू. की पिन को निकाल दिया था तो वह मुझसे बोला कि मेम यह ठीक हो गया है और सब ठीक करके वह खड़ा हुआ तो मैं दूसरी तरफ घूम गई जिससे अब उसका लंड मेरी गांड को लगा तो वह थोड़ा सा डर गया था और मुझसे थोड़ा दूर खिसक गया तो मैंने उससे पूछा कि क्या हुआ सुनील तुम इतना डर क्यों रहे हो और क्या छुपा रहे हो अपनी जेब में? तो वह बोला कि कुछ नहीं है जेब में तो और फिर वह बोला कि वो तो आप इतनी सेक्सी लग रही हो इसलिए मेरा लंड खड़ा हो गया था तो मैंने उसको कहा कि तो उसे शांत कर लो इतना क्यों तड़पते हो तो वह मेरे मुहँ से यह सुनकर चौंक गया और मन ही मन में खुश भी हुआ अब मैंने उसका हाथ पकड़ा और उसे बेड पर बैठाया और मैंने उसके होठों पर अपने होंठ रखकर किस करने लगी और उसके बालों को भी सहलाने लगी और अब वह भी मुझसे थोड़ा सा खुल गया था और मेरे होठों को चूसने लगा और अपने एक हाथ से मेरे बब्स को भी दबाने लगा था और करीब 20 मिनट तक हम ऐसे ही करते रहे और फिर उसने मेरे कपड़े उतार दिए और मुझे पूरी ही नंगी कर दिया और फिर खुद भी नंगा हो गया था।

मैं उसका लंड देखकर बहुत खुश हो गई थी उसका लंड 7 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा था तो फिर वह मेरे बगल में आकर लेट गया और मेरे एक बब्स को अपने मुहँ में लेकर चूसने लगा और दूसरे बब्स की निप्पल को अपने हाथ से दबा रहा था और इसमें मुझे बहुत मज़ा आ रहा था और मैं उसके मुहँ को अपने बब्स पर दबाने लगी और तेज-तेज सिसकियाँ लेने लगी और उससे कहने लगी कि चूस साले चूस और तेज चूस पी जा इनका सारा दूध आहहह… ईईई… इस्सस अब वह और भी जोश में आ गया था और जोर-जोर से मेरे बब्स को चूसने लगा था और काटने भी लगा था और मैं भी जोश में आकर अपने एक हाथ से उसके लंड को जोर-जोर से सहला रही थी और करीब 20 मिनट तक वह बारी-बारी से मेरे दोनों बब्स को चूसता रहा इससे मेरी चूत भी पूरी तरह से गीली हो चुकी थी तो फिर अब वह खड़ा हुआ और मेरे ऊपर 69 की पोजीशन में सो गया अब मैं उसके लंड को अपने मुहँ में लेकर चूसने लगी और वह मेरी चूत को चाटने लगा और मेरी चूत के दाने को चूस रहा था और अपने दाँतों से काट भी रहा था और अब मुझसे भी रहा नहीं जा रहा था और मैं जोर-जोर से उसके लंड को चूस रही थी।

और वह भी अब अपनी कमर को आगे-पीछे करके मेरे मुहँ को चोद रहा था और वह मेरे गले तक अपना लंड डाल रहा था जिससे मेरी आँखो में आँसू आ गए थे और मैंने उससे कहा कि थोड़ा आराम से करो सुनील तो वह बोला कि साली रांड़ आज तो तुझे जी भरके ऐसे ही चोदूंगा आज तो इतना अच्छा माल मिला है और वो भी सामने से अपनी चूत फड़वाने आया है तो फिर मैं क्यों रुकूं और फिर वह और तेज़-तेज मेरे मुहँ को चोदने लगा और मेरी चूत को भी चाटने लगा और अब मैं झड़ गई थी और वह मेरी चूत का सारा रस पी गया था और अब वह खड़ा हुआ और मेरी टाँगों को फैलाकर मेरी टाँगों के बीच में बैठकर मेरी चूत पर अपने लंड को रगड़ने लगा और अब मुझसे भी सहा नहीं जा रहा था और मैंने उसके लंड को पकड़कर अपनी चूत पर रखा और उसने एक जोर का झटका मारा और मेरी चूत गीली थी तो उसका पूरा का पूरा लंड बड़े ही आराम से अन्दर चला गया था और अब वह मेरे बब्स को चूस रहा था और अपनी कमर को आगे-पीछे कर रहा था और मेरी चूत में धक्के मार रहा था और उसके ऐसा करने से मुझे भी बहुत मज़ा आ रहा था और मैं जोर-जोर से सिसकियाँ ले रही थी और अपनी गांड को उछाल-उछालकर उसका साथ दे रही थी और मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था।

अब उसने अपनी चोदने की स्पीड बहुत तेज़ कर दी थी और वह मुझसे कह रहा था कि नाज़िया मेरी प्यारी रंडी अब मैं तुझे अपनी रखैल बनाकर रखूँगा और तुझे हर बार नये-नये तरीके से चोदूंगा और अगली बार तो तेरी गांड में भी अपना लौड़ा डाल के तेरी गांड को भी मारूँगा अब सुनील जानवरों की तरह तेज-तेज मुझे चोद रहा था और फिर मैं एक बार और झड़ गई थी और मेरी चूत भी पूरी ही गीली हो गई थी अब पूरे कमरे में हमारी ही चुदाई की पच-पच की आवाज़ गूँज रही थी और सुनील अब और भी तेज-तेज मेरी चूत को चोद रहा था और फिर करीब 40-45 मिनट की जबरदस्त चुदाई के बाद सुनील ने मेरी चूत में अपना गरम-गरम माल निकाल दिया और मेरी पूरी चूत को अपने वीर्य से भर दिया और वह मेरे ऊपर वैसे ही 10-15 मिनट तक लेटा रहा और मैं उसकी पीठ को सहला रही थी और फिर वह खड़ा हुआ और उसने अपना लंड मेरे मुहँ में डाल दिया और मैंने उसे चाट-चाटकर पूरा साफ़ कर दिया था और फिर हमने बाथरूम में जाकर एक दूसरे को साफ़ किया और कपड़े पहने और वह जाने लगा तो जाते-जाते मैंने उसको 500 रूपये उसकी फीस और 500 रूपये उसके इनाम के दिये तो वह मुस्कुराया और उसने मेरे होठों पर एक किस किया और चला गया।

उस दिन के बाद मैंने उसके साथ कई बार अपनी चुदाई करवाई थी और एकबार तो मैंने उससे अपनी गांड भी मरवाई थी और यह चुदाई का सिलसिला आज भी चल रहा है।

धन्यवाद कामलीला के प्यारे पाठकों !!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *