काली दुनिया का भगबान 2

उस बियाबान में क्या कर रहे थे ?

पलक झपकते ही ऐसे कईं सवाल मेरे जेहन में कौंध गये थे ।

वहां सन्नाटा था । मौत जैसा सन्नाटा । सन्नाटे के साथ चारों तरफ पूर्ण अंधकार था । काजल-सा स्याह अंधकार, जिसे मानो उंगली से ही छुआ जा सके । ऐसे में कुछ भी कर पाना सम्भव नहीं था । अत: मैं उन लोगो के चेहरे तक नहीं देख पा रही थी । किन्तु उन लोगों के बारे में जानना मेरे लिये जरूरी हो गया था । दूसरे उनसे पीछा भी छुड़ाऩा था । फिलहाल मेरे लिये ऐसा कर पाना मुश्किल लग रहा था ।

“कौन हो तुम?” मैं उनकी गिरफ्त से निकलने का प्रयास करती हुई बोली…” और तुम लोगों की इस हरकत का मतलब क्या हैं ?”

“मतलब भी समझा देगे ।” पीछे से एक गुर्राहट पूर्ण स्वर मेरे कानों से टकराया—-“पहले शराफत से हमारे साथ चलो ।”

मैं खामोश हो गई । फिलहाल उनका हुक्म बजा लाने के अलावा मेरे पास और कोई चारा भी नहीं था ।

वे लोग मुझे करीब-करीब घसीटते हुए एक तरफ बढे ।

मैं समझ गई कि उन लोगों का इरादा मुझे लूटने अथवा मेरे साथ कोई गलत हरकत करने का नहीं था ।

“इसे कहां ले चलना है?” उनमें से एक ने पूछा ।

“कमाण्डर के पास ले चलो ।” दूसरे ने उत्तर दिया ।

अब सब कुछ आइने की तरह साफ था । मुझे अंदाजा लगाने में एक क्षण से ज्यादा नहीं लगा था कि इस वक्त आर्मी के एरिया में थी और वे लोग सेनिक थे । उन्होंने मुझे विमान से पैराशूट की मदद से नीचे कूदते देख लिया था । संयोग से वे उसी जगह के आस-पास कही मौजूद थे, जहां मैं गिरी थी । इसलिये मैं फोरन उनके हत्थे चढ़ गई थी ।

“कोई गलत हरकत करने की कोशिश मत करना ।” उनमें से एक के होठों से भेड्रिये जैसी गुर्राहट निकली—“वरना अंजाम बहुत बुरा होगा ।”

मैं चुप रही ।

मेरा गलत हरकत करने का इरादा कत्तई नहीं था । मैं जानती थी कि इस वक्त मेरी कोई भी गलत हरकत उल्टा मेरे लिये खतरनाक साबित हो सकती थी ।

मैं खामोशी के साथ चलती रही ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *