भाभियों के साथ गाँव में मस्ती 1

मेरा नाम किशोर है और मैं बिहार के पटना में रहता हूँ। मेरा गाँव पटना से 40 कि॰मी॰ दूर था। जहां पे ये अनोखी घटना घाटी Hindi Sex Stories Antarvasna Kamukta मैं अपना परिचय देता हूँ, मेरी उम्र 22 साल, हाइट 5’9”, वजन 60 किलो, अथलेटिक बाडी, लण्ड का साइज 6” है। तो अब मैं कहानी पे आता हूँ।

बात आज से एक साल पहले की है। उस टाइम मेरी उमर 21 साल थी। उन दिनों में अपने पुराने गाँव में गया हुआ था। जिसकी आबादी करीब 3000 लोगों की थी। गाँव में मेरे चाचा-चाची, उनके तीन बेटे और उन तीनों की बीवियां रहते हैं।

ये कहानी उन भाभियों से ही जुड़ी है। मेरी बड़ी भाभी का नाम राशि, उम्र 30 साल, रंग गोरा, फिग साइज 35-29-36; दूसरी भाभी प्रीति, उम्र 26 साल, रंग मीडियम सांवला सा, फिग 34-26-34; तीसरी और छोटी भाभी का नाम सोनिया, उम्र सिर्फ 24 साल, एकदम गोरी-गोरी और सेक्सी, फिग 36-26-36, और एकदम भारी चूतड़।

मुझे ये मालूम नहीं था की वो सब बहुत सेक्सी हैं। क्योंकी गाँव में दर्शल इतनी आजादी नहीं होती है। लोग बहुत संकुचित रहते थे। औरतों को बाहर जाना कम रहता था, सिर्फ सब्ज़ी ही लाने जाते थे या कभी तालाब पे पानी भरने या कपड़े धोने।

हमारे अंकल के घर के पीछे ही एक तालाब था जो की सिर्फ 100 फुट ही दूर था। बीच में और किसी का घर नहीं था। सिर्फ कुछ पेड़ पौधे थे। हमारी भाभी रोज उधर ही कपड़े धोने जाती थी। सभी भाभियां कम बाँट लेती थी। कोई रसोई, तो कोई कपड़े धोने का, तो कोई बर्तन और सफाई का।
जैसे ही मैं गया उन सभी लोगों ने मुझे बड़े प्यार से आमंत्रित किया।

मेरी भाभियां मजाक भी करने लगीं की बहुत बड़ा हो गया है, शादी के लायक। तो मैं जाकर सभी से मिलने के बाद सोचा थोड़ा फ्रेश होता हूँ। मैंने अपनी बड़ी भाभी से बोला- मुझे नहाना है।

उसने बोला- इधर नहाना है या तालाब पे जाना है?

मैं- अभी इधर ही नहा लेता हूँ तालाब कल जाऊँगा।

वो बोली- “ठीक है…” और उसने पानी दे दिया।

मैं सभी भाभियों को देखकर उतेजित हो गया था तो मैंने बड़ी भाभी को याद करते हुए मूठ मारी और स्नान करके जैसे ही वापस आया, बड़ी भाभी बोली- क्यों देवरजी इतनी देर क्यों लगा दी? कही कोई प्राब्लम तो नहीं? अगर हो तो बता देना, शायद हम आपकी कोई मदद कर सकें? ऐसा बोलकर सभी भाभियां हँसने लगीं। मुझे बहुत आश्चर्य हुआ और खुशी भी।

दूसरे दिन सुबह मैं 7:00 बजे उठा। ब्रश करके नाश्ता किया।

तभी बड़ी भाभी कपड़े की पोटली बना के तालाब पे धोने को जा रही थी। वो बोली- “चलो देवरजी, तालाब आना है क्या?”

मैं तो वही राह देख रहा था कि कब मुझे वो बुलाएं। मैंने हाँ कहा और उपने कपड़े और तौलिया लेकर उनके साथ चल पड़ा। रास्ते में भाभी खुश दिख रही थी। उसने थोड़ी इधर-उधर की बातें की। जब हम तालाब पहुँचे। ओह्ह… माई गोड… मैं क्या देख रहा हूँ? मेरी तो आँखें फटी की फटी रह गईं। वहां पे 10-15 औरतें थी और उन सब में से 6-7 ने तो ऊपर ब्लाउज़ नहीं पहना था, मेरे कदम रुक ही गये थे।

तो भाभी ने पीछे मुड़ के देखा और बोली- क्यों देवरजी क्या हुआ, रुक क्यों गये?

मुझे मालूम था की वो मेरे रुकने की वजह जानती थी, लेकिन जानबूझ कर मुझे ऐसा पूछ रही थी। मैं बोला- “भाभी यहाँ पर तो…” बोलकर मैं रुक गया।

भाभी ने पूछा- क्या? यहाँ पर तो क्या?

मैंने बोला- सब औरतें नंगी नहा रही हैं, मैं कैसे आऊँ?

वो बोली- तो उसमें शर्माने की क्या बात है? तुम अभी इतने बड़े कहां हो गये हो, चलो अब, जल्दी करो।

मैं तो चौंक कर रह गया। वहां जाते ही सभी औरतें मुझे देखने लगी और भाभी को पूछने लगी- कौन है ये लड़का? बड़ा शर्मिला है क्या?

भाभी ने बोला- ये मेरा देवर है और शहर से आया है। अभी-अभी ही जवान हुआ है इसलिए शर्मा रहा था, तो मैंने उससे बोला की शर्माओ मत, ये सब बाद में देखना ही है ना। और सब औरतें हँसने लगीं।

मुझे अब पता चला की गाँव में भी औरतें माडर्न हो गई हैं, और गंदी-गंदी बातें करती हैं।

उनमें से एक ने मेरी भाभी को बोला- क्यों रे, देवर से हमारा परिचय नहीं कराएगी क्या?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *