मौसी की लड़की को चोदने का 1

मौसी की लड़की को चोदने का 1

मेरा नाम आफ़ताब आलम है और हम एक नवाब के खानदान से ताल्लुक रखते है Antarvasna Kamukta Hindi sex Indian Sex Hindi Sex Kahani Hindi Sex Stories Antarvasna1.com दोस्तों मैंने क्या किस्मत पाई है लगता है खुदा इस जनम में मुझपर पूरी तरह मेहरबान हो चूका है. हमारे यहाँ शादी केवल खानदान में ही होती है। हमारे खानदान में सिर्फ़ दो लड़के है में और मेरी मौसी का लड़का इमरान, जिसका निकाह मेरी बहन से हुआ है। मेरे दो और बहनें है उनका निकाह भी इमरान से ही होगा।

मेरी मौसी के दो लड़कियां है सबाना और सबनम, मेरे चाचा के दो लडकियाँ है फातिमा और रुकसाना, सबाना 26 साल की, सबनम 18 साल की, फातिमा 20 साल की और रुकसाना 19 साल की है। फिर तय हुआ की मेरा निकाह सबाना और सबनम से एक दिन और फातिमा और रुकसाना से दूसरे दिन हो जाए और इमरान का निकाह सलमा और फातिमा से हो जाए, ताकि खानदान घर में ही बढ़े और सब हवेली में ही रह जाए।

फिर मैंने मेरी पहली सुहागरात सबाना के साथ चुनी और हर एक महीने के बाद सुहागरात मनाने का फ़ैसला लिया और क्योंकि उम्र में सब उससे छोटी थी इसलिए घरवालों को भी कोई ऐतराज़ नहीं हुआ।

अब दोस्तों में आपको सबाना के बारे में और उनकी चुदाई की कहानी सुनाता हूँ। वो मुझसे 3 साल बड़ी थी, लेकिन वो बला की खूबसूरत थी, हाईट 5 फुट 4 इंच, गोरी, भूरे बाल, भरा हुआ मांसल बदन, वो एकदम सोनाक्षी जैसी लगती थी। मेरी उससे बहुत कम बात हुई थी, लेकिन मुझे मालूम था कि आज जन्नत की सैर करने का मौका खुदा ने दे ही दिया है।

में आज उस नाजुक सबाना को सोने नहीं दूँगा। फिर रात को रुकसाना और सबनम, फ़ातिमा मुझे सबाना के कमरे में ले गयी और बाहर से दरवाज़ा बंद कर हंसते हुए चली गयी। अब वो कमरा गुलाब के फूलों से सज़ा था और सेज़ पर सबाना बैठी थी। फिर में उनके पास गया और उनका हाथ अपने हाथ में लेकर उनसे बातें करने लगा और बोला कि आप तो यह बताओ कि मुझे आपके साथ करना क्या है?आप ये कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है।

तो उन्होंने शरमाते हुए मुझे अपनी बाहों में लिया और कहने लगी कि मेरा बच्चा तुझे सब मालूम है। अब सबाना हरे रंग की सलवार समीज और पूरी गहनों से लदी हुई थी। फिर मैंने धीरे से उनके होंठो को चूमा, उफ उनकी खुशबू ही क्या सेक्सी थी? और मेरे चूमते ही उनकी सिहरन और उनके सोने के कंगनो की टकराहट से छन की आवाज़ मेरे लंड को फौलादी बना गयी थी।

फिर मैंने धीरे से उन्हें अपनी बाहों में लिया और उनके होंठो पर चूमना और अपनी जीभ से गीली चटाई शुरू कर दी। अब सबाना सिहरकर मुझसे लिपट गयी थी और उसकी 38 साईज की चूचीयां मेरे सीने से दब गयी थी।

फिर मैंने उत्तेजना में उन्हें जकड़कर अपनी बाहों में मसल डाला। तो सबाना ने कहा कि आफ़ताब मेरे शोहर धीरे करो बहुत दर्द होता है। फिर मैंने उनके गालों पर अपनी जीभ फैरनी चालू कर दी और फिर उनके ऊपर के होठों को चूमता हुआ, उनके नाक पर अपनी जीभ से चाट लिया। अब सबाना उत्तेजित हो चुकी थी और सिसकारियां भरती हुई मुझसे लिपटी जा रही थी।

अब में उनके चेहरे के मीठे स्वाद को चूसते हुए उनकी गर्दन को चूमने, चाटने लगा था और मेरे ऐसा करते ही वो सिसकारी लेती हुई मुझसे लिपटी जा रही थी। अब में सबाना आपा के समीज के ऊपर से ही उनके बूब्स को दबाने लगा था। अब उनके मांसल बूब्स दबाने से वो सिहरने, सिकुड़ने और छटपटाने लगी थी, जिससे मैंने जोश में आकर उनका ब्लाउज फाड़ दिया और उसे अलग करके उनकी काली ब्रा भी उतार दी।

उफ़फ्फ़ अल्लाह ने उसे क्या खूबसूरती से बनाया था? अब मेरा लंड तनकर पूरा खड़ा हो गया था और उनका सुडोल, चिकना, गोरा बदन, मेरी बाहों में सिर्फ़ ब्रा और पैंटी में थी।

अब उनके होंठो को किस करते हुए उनके मुँह का स्वाद और उनके थूक का मीठा और सॉल्टी टेस्ट मुझे मदधहोश कर रहा था। अब उनकी आहें भरने की सेक्सी आवाज़ और नंगे जिस्म पर आभूषण मेरे लंड के लिए एक वियाग्रा की गोली से कम नहीं थे। फिर वो उत्तेजना से सिसकारी भरते हुए बोली कि ओह आफ़ताब 26 साल से तड़पति सबाना पर ये क्या हुआ?

मुझे मसल दो, मुझ पर छा जाओ, में मदहोश हूँ, मुझे अब और मत तड़पाओ, आओ मेरे राजा मेरी प्यास बुझा दो। अब उनकी हालत देखकर मैंने भी सोचा कि देर करना उचित नहीं है और उनको पूरा नंगा कर दिया, क्या मस्त माल था? थैंक यू अल्लाह, शुक्रिया। फिर मैंने सिर्फ़ गहनों में लदी सबाना के पेट की अपनी जीभ से ही चुदाई कर डाली, सपाट पेट, लहराती हुई कमर, गहरी नाभि और बूब्स पर तनी हुई निपल्स, आँखे अधमुंदी चेहरा और गला मेरे चाटने के कारण गीला और शेव्ड हल्के ब्राउन कलर की चूत, केले के खंभे जैसी जांघे और गोरा बदन।आप ये कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है।

कहानी जारी है ….. आगे की कहानी पढने के लिए निचे लिखे पेज नंबर पर क्लिक करे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *