मेरी सेक्स लाइफ-3

मेरी सेक्स लाइफ-3

हेलो दोस्तों मेरी पिछली कहानी आप लोगों ने पढ़ी होगी अब आगे मामी Antarvasna Kamukta Hindi sex Indian Sex Hindi Sex Kahani Hindi Sex Stories की मौसी का फ़ोन आया था रानी को बुला रही थी पर रानी का जाने का मन नहीं था और मैंने भी मामी से कह कर माना करवा दिया था अब मामी को मालूम था मेरे और रानी के बारे मैं सिर्फ़ रानी को पता चलना था मेरे और मामी के बारे मैं उसके बाद मेरी लाइन साफ़ थी मामा की कोई प्रोब्लुम थी ही नहीं वो नाईट शिफ्ट मैं ड्यूटी कर रहे थे २-३ दिन तो ऐसे ही निकल गए मामी का मन बहुत हो रहा था और मेरा मन रानी को चोदने के लिए हो रहा था और वह रानी भी चुदने को तड़प रही थी मामी का फ़ोन आया की बाजार जाना है तो शाम को जल्दी घर आना मैं मामी के घर गया वो तैयार थी उनको घर से लेकर निकल गया और पूछा कहा जाना है तो वो बोली के पहले अपने रूम पर चलो वह जाकर मामी के साथ २ बार सेक्स किया सेक्स करते समय मामी को रानी और मेरी पूरी कहानी सुनाई सेक्स के बाद मैंने मामी से कहा की मैं रानी को चोदना चाहता हु तो उन्होंने कहा की मै भी तुम्हारी और रानी की चुदाई देखना चाहती हु तो मामी और मैंने प्लान बनाया रात को मैं मामी के घर रुक जाउगा और रात को रानी के साथ सेक्स करुगा जो की मामी देखगी रात को मैं खाना खाने के बाद बाजार से मिठाई लेकर आया जो रानी और मामी को खिला दी फिर मामी से कहा की मेरे रूम मैं शॉट सर्किट हुआ है पावर ऑफ है तो मामी ने वाही रुकने को कहा मैं बेड पर सो रहा था और मामी और रानी निचे सो रही थी | आप लोग यह कहानी मस्ताराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है | रात को मैंने रानी के पास जा कर सो गया और उसकी चूत सहलाने लगा तो वो उठ गई और कहने लगी की दीदी उठ जाएगी तो मैंने कहा की मिठाई मैं नींद की दवा थी वो अब सीधा सुबह उठेगी (ये झूट बोल था जिससे रानी आराम से सेक्स के लिए तैयार हो जाये) रानी और मैं अब एक दूसरे को किश कर रहे थे मैं उसकी चूत सहला रहा था और वो मेरा लण्ड थोड़ी देर बाद हम दोनों ६९ की पोजीशन हम दोनों अपने मैं मस्त थे की तभी मामी ने उठ कर लाइट चालू कर दिया रानी देख के घबरा गई और (मैं भी सोच रहा था की बात सिर्फ देखने की हुई थी इस पागल गांड ने ये क्या कर दिया) मामी रानी से और मुझसे सवाल जबाब करने लगी रानी बहुत डरी हुई थी मैंने रानी को कहा तू बाथरूम मैं जाकर मुंह हाथ धोकर आयो (मैं सिर्फ रानी को वह से अलग करना चाहता था) मैं – मामी ये क्या किया अपने मामी – मेरा भी सेक्स का मन हो रहा है तुम कुछ करो फिर रानी आ गई तो मैंने रानी से कहा की मामी किसीको कुछ नहीं बताएगी पर उनकी एक शर्त है वो भी हमरे साथ सेक्स करना चाहती है मरता क्या न करता वाली बात थी थोड़ा समझने के बाद रानी भी तैयार हो गई थी मैं तो कपडे उतर ही चूका था मामी ने भी अपने कपडे तुरंत ही उतर दिया पर रानी को थोड़ी शर्म आ रही थीमामी बहुत गरम हो गई थी और बैठ कर लण्ड पीने लगी थी उनको थोड़ी सी भी झिझक नहीं थी की उनकी छोटी बहन भी साथ है मैने रानी को अपनी तरफ खींचा ऑफ़ किश करने लगा वो सही तरीके से साथ नहीं दे रही थी तो मैंने कहा की तेरी बहन को कोई दिक्कत नहीं है तो तू को अपना मज़ा ख़राब कर रही है फिर वो भी साथ दे रही थी की तभी मामी ने उसकी सलवार और पैंटी खींच कर निचे कर दी और उसकी चूत मैं ऊँगली करने लगी इस की रानी को उम्मीद नहीं थी वो थोड़ा चौक कर मामी को देखने लगी मामी ने भी उसको आँख मारी और कहा यस करो अब मैं रानी को किश कर रहा था और मामी निचे बैठ कर कभी मेरा लण्ड चूसती तो कभी रानी की बुर चाट रही थी थोड़ी देर बाद मैंने रानी को विस्तार पर लिटा दिया और उसकी बुर मैं अपना लण्ड सेट किया और धक्का दिया लण्ड करीब २’ अंदर था मैं लण्ड को इस बार पूरा अंदर करना चाहता था तो धीरे धीरे धक्का मरते हुए लण्ड को अंदर पेलने लगा और वह मामी रानी के बूब्स दवा रही थी और उसको किश करने लगी रानी भी साथ दे रही थी बहुत जल्द दोनों एक दूसरे के साथ सेक्स एन्जॉय करने लगी और मैंने भी अब फाइनल धक्का मार और पूरा लण्ड अंदर कर दिया रानी मामी को किश कर रहीथी इसलिए ज्यादा आवाज़ नहीं आई और मामी ने रानी को कास कर पकड़ा हुआ था | आप लोग यह कहानी मस्ताराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है | थोड़ी देर बाद सब नार्मल हुआ और मेरे धक्कों का जबाब नहीं वो गांड उठा कर देने लगी फिर मैंने मामी के बाल पकड़ कर उनका मुंह अपनी तरफ किया और किश करने लगा फिर मामी ने अपना पैर घुमा कर दूसरी तरफ रखा और रानी के मुंह पर बैठ गई अब मामी और मैं आमने सामने थे किस कर रहे थे और निचे मेरा लण्ड जड़ तक जा कर धक्के मर रहा था और फिर मैं चरम पर आ गया था और धक्के तेज हो गए था और फिर रानी की चूत मैं पानी का सैलाव आ गया थोड़ी देर बाद मैं अलग हुआ और मामी भी रानी के ऊपर से हटी तो रानी की चूत से मेरा पानी बहार आ रहा था और रानी के मुंह पर मामी की चूत का पानी लगा हुआ था | आप लोग यह कहानी मस्ताराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है | मैं पास मैं ही लेट गया और रानी भी बेसुध टाइप से पड़ी थी हम दोनों की खुमारी उतर गई थी पर मामी तो बहुत ज्यादा गरम हो गई थी थोड़ी देर बाद रानी वाशरूम गई और यहाँ मामी मेरा लण्ड चाट रही थी अपने वासना शांत करने के लिए थोड़ी देर बाद लण्ड अपनी पोजीशन मैं आ गया और मामी को घोड़ी बनकर पीछे से चोदने लगा मामी का बाल पकड़ कर खींचता और धक्का मरता ऐसा लग रहा था की किसी पागल घोड़ी की सवारी कर रहा हु बाल खींचते ही पूरा लण्ड चूत के अंदर जा रहा था और बालों की लगाम छोड़ते हुए मामी आगे को जा रही थी ऐसा चलता रहा और फिर दोनों के धक्कों की रफ़्तार ताज हो गई और पानी निकल गया ये सब पास मैं खड़ी रानी भी देख रही थी फिर मामी और मैं वाशरूम से आकर सो गए अब रानी और मामी की झिझक मिट गई थी और रात भर खुलकर बात की नेक्स्ट नाईट मामी ने रानी की गांड का भी उद्घाटन करवाया था |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *