मेरी पहली चुदाई मेरे मामा के साथ 1

मेरी पहली चुदाई मेरे मामा के साथ 1

हेल्लो दोस्तों,मै रूबी तिवारी डॉट नेट की राइटर हूँ मुझे यह कहानी नंदिनी Antarvasna Kamukta Hindi sex Indian Sex Hindi Sex Kahani Hindi Sex Stories Antarvasna1.com ने मेल की है वो चाहती थी मै उनकी ये कहानी डॉट नेट पर प्रेषित करू उनकी ये कहानी मै अपनी जुबानी में लिखती हूँ, ये मेरी जवानी की पहली चुदाई की कहानी है जिसमे मैं अपने बदन के मज़े ले रही थी लेकिन उसी दिन मेरी सील भी टूट गयी।

मेरा नाम नंदिनी है। अभी मेरी उम्र 20 साल की है। अभी तक कुवारीं हूँ। लेकिन इसका मतलब ये नहीं की मेरी चूत भी कुवारी हैं। ये तभी चुद गयी थी जब मेरी उम्र 17 साल भी नहीं हुई थी।

तब मै दसवी कक्षा में पढ़ती थी। उस दिन घर में मेरी मम्मी भी नहीं थी। मै और मेरा भाई जो कि मुझसे 4 साल छोटा था घर पर अकेले थे। उस दिन स्कूल की छुट्टी थी। इसलिए मै घर के काम कर रही थी। मेरा छोटा भाई पड़ोस में खेलने चला गया था।

मै बाथरूम में नहाने चली गयी। अपने सारे कपडे मैंने हॉल में ही छोड़ दिए और नंगी ही बाथरूम में चली गयी। क्यों कि घर में तो कोई था नहीं इसलिए किसी के देखने का कोई भय भी नहीं था। बाथरूम में आराम से मै अपने चूत को सहलाने । सहलाते सहलाते अपने चूत में ऊँगली डाल ली। पूरी ऊँगली अन्दर चली गयी। बड़ा ही मज़ा आया।

अन्दर चूत में ऊँगली का स्पर्श साफ़ महसूस हो रहा था। मै अपने ऊँगली को चूत में घुमाने लगी। मुझे लगा कि शायद चूत में अभी भी बहूत जगह इसमें खाली है। मैंने बाथरूम में रखा हुआ पुराना टूथब्रुश लिया और उलटे सिरे से पकड़ कर अपने बुर में डाल लिया।

मै नीचे जमीन पर बैठ गयी और अपनी दोनों टांगो को पूरी तरह फैला दिया। इस से मुझे अपने बुर में ब्रश डालने में काफी आसानी हुई। अब मुझे बहूत ही मज़ा आने लगा। इतना मज़ा आ रहा था कि पेशाब निकलने लगा। करीब आधे घंटे तक मैंने अपने चूत में कभी शेम्पू तो कभी नारियल तेल डाल डाल के मज़ा लेती रही। और ब्रश से चूत की सफाई भी करती रही। थोड़े देर के बाद मै नहा कर वापस अपने कमरे में आ गयी। थोड़ी देर के बाद मेरा छोटा भाई भी बाहर से आ गया।

उसी शाम में मेरी मम्मी के दूर के रिश्ते में भाई लगने वाले एक रिश्तेदार मेरे यहाँ आ धमका । उसकी उम्र रही होगी कोई 23 साल की। उनको मेरी मम्मी से कुछ काम था। लेकिन मम्मी तो कल शाम में आने वाली थी। मैंने मम्मी को फोन कर के उसके बारे में बताया तो मम्मी बोली आज रात को उसे अपने घर में ही रुकने के लिए बाहरी कमरा दे देना।

रात को खाना पीना खा कर सभी चुपचाप सो गए। रात 11 बजे मुझे पिशाब लग गया। मै बाथरूम गयी तो मुझे फिर से वही सुबह में चूत में ब्रश डालने वाली घटना याद आ गयी। मुझे फिर से अपने बुर में ब्रश डालने का मन करने लगा। मैंने अपने सारे कपडे खोल कर अपने बुर में ब्रश डाल कर मज़े लेने लगी।

मुझे अपने बाथरूम का दरवाजा बंद करने का भी याद नहीं रहा। मै दीवार की तरफ मुह कर के अपने चूत में ब्रुश डाल कर मज़े ले रही थी। तभी पीछे से आवाज आई- ये क्या कर रही हो नंदिनी? ये सुन कर मै चौंक गयी। मैंने पलट कर देखा तो मेरा मामू नरेश ठीक मेरे पीछे खडा था। वो सिर्फ एक तौलिया पहने हुए था. आप ये कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है।

मैंने कहा – आप यहाँ क्या कर रहे हैं मामू?

वो बोला- मुझे पिशाब लगा था इसलिए मै यहाँ आया था तो देखा कि तुम कुछ कर रही हो।
मै अब क्या कहूं क्या नहीं? हड़बड़ी में मैंने कह दिया – देखते नहीं ये साफ़ कर रही हूँ। इसकी सफाई भी तो जरूरी है न? वैसे तुम यहाँ पिशाब करने आये हो ना तो करो और जाओ।

उसने कहा – मै तो यहाँ पिशाब करने आया था ।
मैंने कहा – ठीक है तुम तब तक पिशाब करो मै अपना काम कर रही हूँ।
दरअसल मै उसकी लंड देखना चाहती थी। सोच रही थी कि जब इसने मेरा चूत देख लिया है तो मै भी इसके लंड को देख कर हिसाब बराबर कर लूं।

नरेश – तुम यहीं रहोगी?
मैंने कहा- हाँ। तुम्हे इस से क्या? ये मेरा घर है । मै कहीं भी रहूँ।
उसने कहा- ठीक है।

उसने अपना तौलिया खोल दिया । और पूरी तरह से नंगा हो गया। मुझे सिर्फ उसकी लंड देखना था। उसका लंड मेरे अनुमान से कहीं बड़ा और मोटा था। उसकी लंड किसी मोटे सांप की तरह झूल रहा था। वो मेरे सामने ही कमोड पर बैठ गया।

उस ने अपने लंड को पकड़ा और उस से पेशाब करने लगा। यह देख मै बहूत आश्चर्यचकित थी कि इतने मोटे लंड से कितना पिशाब निकलता है? पिशाब करने के बाद उसने अपने लंड को झाड़ा और सहलाने लगा।

उसने कहा – तुम अपने चूत की सफाई ब्रश से करती हो?
मैंने कहा – हाँ.
उसने कहा – क्या तुम अपने चूत के बाल भी साफ़ करती हो?
मैंने कहा – चूत के बाल? मेरे चूत में बाल तो नहीं हैं.

उसने कहा – चूत के अन्दर नहीं चूत के ऊपर बाल होते हैं .जैसे मेरे लंड के ऊपर बाल है ना उसी तरह.
कह कर वो अपने लंड के बाल को खींचने लगा.
मैंने पूछा – तुम्हारे लंड पर ये बाल कैसे हो गए हैं?
वो बोला – जब तुम बड़ी हो जाओगी तो तुम्हारे चूत पर भी बाल हो जायेंगे।

मैंने कहा – तुम्हारा लंड तो इतना बड़ा है कि लटक रहा है। क्या मेरा बुर भी बड़ा होने पर इतना ही बड़ा और लटकने लगेगा?
वो हंस के बोला- अरे नहीं पगली, भला बुर भी कहीं लटकता है? हाँ वो कुछ बड़ा हो जायेगा। फिर बोला- तुम एक जादू देखोगी? अगर तुम मेरे इस लंड को छुओगी तो ये कैसे और भी बड़ा और खड़ा हो जाएगा।
मुझे बहूत ही आश्चर्य हुआ। आप ये कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है।

मैंने कहा – ठीक है। दिखाओ जादू .
वो कमोड पर से उठ गया। और मेरे पास आ गया। उसने अपने लंड को अपने हाथों से पकड़ कर कहा – अब इसको छुओ। मैंने उसके लंड को पकड़ लिया।

ऐसा लग रहा था कि कोई गरम सांप पकड़ लिया हो। उसने मेरे हाथ को अपने हाथ से दबाया और अपने लंड को घसवाने लगा। थोड़ी ही देर में मैंने देखा कि उसकी लंड सांप से किसी लकड़ी के टुकड़े जैसा बड़ा हो गया , एकदम कड़ा और बड़ा। उसे बड़ा ही आनंद आ रहा था। उसने अचानक मेरा हाथ छोड़ दिया। लेकिन मै उसके लंड को घसती ही रही। थोड़ी देर में देखा उसके लंड से चिपचिपा सा पानी निकल रहा था जो शेम्पू की तरह था। वो कराहने लगा l

मैंने कहा -ये क्या है?
वो बोला – हाय नंदिनी, ये लंड का पानी है। बड़ा ही मज़ा आता है। तू भी अपने चूत से ऐसा ही पानी निकालेगी तो तुझे भी बड़ा मज़ा आयेगा.
मैंने कहा – लेकिन कैसे?

वो बोला – आ इधर मै तुझे बता देता हूँ.
मैंने कहा – ठीक है , बता दो।
भाई मुझे कमोड पर बैठा दिया और मेरी दोनों टांगों को फैला दिया। भाई मेरे बुर को अपने मुह से चूसने लगा। मुझे बहूत ही अच्छा लग रहा था। भाई मेरी बुर में अपनी जीभ डाल दी। मेरे से रहा नहीं गया और मेरे बुर से पिशाब निकलने लगा। मै अपनी पहली चुदाई को लेकर बेहद उत्साहित थी.

लेकिन वो हटा नहीं और पेशाब पीने लगा। मै तो एक दम पागल सी हो गयी। उस समय तो मेरी चूची भी नहीं निकली थी। लेकिन वो मेरी निपल को ऐसे मसल रहा था लगा मानो वो मेरी चूची मसल रहा है। पेशाब हो जाने के बाद भी वो मेरे बुर को चूसता रहा।

फिर अचानक बोला – आ नीचे लेट जा ।
मैंने कहा – क्यों मामू?
वो बोला – अरे आ ना. तुझे और मस्ती करना बताता हूँ.

मै चुपचाप बाथरूम के फर्श पर लेट गयी। फर्श पर मेरे ही पिशाब पड़े हुए थे। उसने मेरे दोनों पैरों को उठा कर अपने कंधे पर रख दिया और मेरे बुर में ऊँगली डाल कर ऊँगली को बुर में घुमाने लगा। मुझे मज़ा आ रहा था।
वो बोला – अरे तेरा बुर तो बहूत बड़ा है। ये ब्रश से थोड़े ही साफ़ किया जाता है? आ इसकी मै सफाई अपने लंड से कर देता हूँ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *