मेरी ढीली योनि और पति के छोटे

मेरी ढीली योनि और पति के छोटे

आदरणीय डॉक्टर साहब, मैं एक पत्रकार हूं एक स्त्री होने Antarvasna Kamukta Hindi sex Indian Sex Hindi Sex Kahani Hindi Sex Stories के नाते कई बातें छिपा कर रखनी होती हैं लेकिन वकील और डॉक्टर से बातें छिपाने पर नुक्सान ही होता है। हमारी सेक्स लाइफ़ शुरू होने से पहले ही सत्यानाश हो चुकी है। मैं हॉस्टल में रहा करती थी और आजकल के प्रभाव में लैपटॉप पर पोर्न फ़िल्में देख कर मुझे masturbation की आदत लग गयी थी जिसे शादी तय होने से पहले बड़ी मुश्किल से छोड़ पायी । शादी के बाद पता चला कि मेरे पति के सेक्स ऑर्गन का साइज एरेक्टेड कंडीशन में चार इंच है और कुछ पतला मरियल सा है। मुझे बड़ी निराशा हो रही है पति तो अपनी संतुष्टि के लिये कुछ दिन मेरे साथ सेक्स करते रहे लेकिन उन्होंने मुझसे कहा कि मेरा सेक्स ऑर्गन एकदम ढीला पिलपिला सा है। अब मैं उन्हें क्या बताऊं कि ये किन हरकतों का नतीजा है। हम दोनो को सेक्स में जरा भी आनंद नहीं आ रहा है जिस कारण धीरे-धीरे कुछ अजीब सा तनाव रहने लगा है। अब हम एक एक महीने तक सेक्स नहीं करते तो आप समझ सकते होंगे कि हम किस हाल में आ चुके हैं जबकि हमारी शादी को मात्र एक साल हुआ है । आपसे रिक्वेस्ट है कि आप हम दोनो के लिये कुछ आयुर्वेदिक उपचार बताएं। मैं आपसे फोन पर भी बात करना चाहती हूं कि दवाएं किस तरह मंगवायी जाएं और उनकी कितनी कीमत होगी।

मोनिका राजवंशी

बहन मोनिका जी, आपने अपनी गलती को समझ कर छोड़ दिया ये अच्छा करा वरना योनि में संक्रमण आदि होने से आप भारी मुसीबत में पड़ सकती थीं। ध्यान रखने की बात है कि स्त्री योनि के कसाव से ही यौन सुख है। आपने परिवार की मर्यादा को बना कर रखा है इसके लिए मैं आपकी प्रशंसा करता हूं। आप दोनों की समस्या को आपने विस्तार से लिखा है ।

आप निम्न उपचार लें..
माजूफल + मुलायम सुपारी + बड़ी इलायची + कचूर + धाय के फूल + तज + छोटी हरड़ + फ़िटकरी + गुलाब के सूखे फूल + सुपारी के सूखे फूल + बड़ी हरड़ का छिलका + गुड़मार ; इन सभी बारह जड़ी-बूटियों को आयुर्वेदिक कच्चा माल बेचने वाले के पास से ले लीजिये सभी को बराबर मात्रा में ले लीजिये यानि कि सभी ५०-५० ग्राम ले लीजिये। इन सबको बारीक पीस लीजिये व साफ़ मलमल के महीन कपड़े में २० ग्राम की मात्रा को एक पोटली की तरह से बांध लीजिये व उसे योनि में इस तरह स्थापित करिए कि पोटली का धागा बाहर लटका रहे ताकि निकालने में सुविधा हो। यह काम अत्यंत हल्के हाथ से करें अन्यथा यदि खरोंच आदि आ गयी तो तकलीफ़ बढ़ सकती है। रात में सोते समय रख लीजिये व सुबह निकाल कर स्नान कर लीजिये। साथ ही एक एक गोली सुबह-शाम चंद्रप्रभा वटी पानी के साथ भोजन के बाद लेती रहें। इस उपचार को कम से कम चालीस दिन तक लीजिये।

आपके पति के लिये उन्हें निम्न उपचार दें..|
रस सिन्दूर २५ मिग्रा.+ मुक्ताशुक्ति भस्म २५ मिग्रा. + जावित्री १० मिग्रा. + स्वर्ण बंग २५ मिग्रा. + कुक्कुटाण्डत्वक भस्म २५ मिग्रा. + अश्वगंधा ५० मिग्रा. + शिलाजीत २५ मिग्रा. + शुद्ध विजया २५ मिग्रा. + गोखरू ५० मिग्रा. + शुद्ध हिंगुल २५ मिग्रा. + बबूल गोंद २५ मिग्रा. + विधारा ५० मिग्रा. + दालचीनी २५ मिग्रा. + कौंच बीज २५ मिग्रा. + तालमखाना २५ मिग्रा. + सफ़ेद मूसली २५ मिग्रा. + जायफल १० मिग्रा. + शतावर ५० मिग्रा. + लौंग १० मिग्रा. + बीजबन्द ५० मिग्रा. + सालम मिश्री ५० मिग्रा.
इन सभी की एक खुराक बनेगी आप इसी अनुपात में औषधियाँ मिला कर अपनी जरूरत के अनुसार दवा बना दें व सुबह नाश्ते तथा रात्रि भोजन के बाद एक एक खुराक मीठे दूध से दीजिये।
दूसरी दवा लिंग पर लगाने के लिये है इससे कोई नुक्सान नहीं होगा इसलिए परेशान न हों।
अश्वगंधा तेल १० ग्राम + मालकांगनी तेल १० ग्राम + श्रीगोपाल तेल १० ग्राम + लौंग का तेल २ ग्राम + निर्गुण्डी का तेल १० ग्राम इन सब को मिला कर इसमें केशर १ ग्राम + जायफल २ ग्राम + दालचीनी २ ग्राम । इन सबको कस कर घुटाई कर लें तो क्रीम की तरह बन जाएगा। इसे किसी मजबूत ढक्कन की काँच या प्लास्टिक की चौड़े मुँह की शीशी में रख लीजिये। इसे नहाने के बाद अंग सुखा कर भली प्रकार हल्के हाथ से मालिश करते हुए अंग में जाने दें। लगभग दस मिनट में यह क्रीम लिंग में अवशोषित हो जाएगी। इस प्रकार यदि दिन में समय मिले तो दो बार क्रीम लगाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *