मेरी चाची के मीठे दूध और क्लीन चूत 1

मेरी चाची के मीठे दूध और क्लीन चूत 1

मेरे परिवार मैं कुल 9 लोग थे. उनमे से एक मेरी चाची थी. उसकी उम्र कुछ 30 साल होगी Antarvasna Kamukta Hindi sex Indian Sex Hindi Sex Kahani Hindi Sex Stories Antarvasna1.com उसकी एक 4 साल के बेटी भी थी जिसका नाम सुहानी था. मेरे पापा और चाचा कपडे का व्यापार करते थें. इसलिए वोह लोग काफी बाहर भी जाते थे व्यापार के लिए.

अब मैं अपनी चाची के बारे में बताने जा रहा हूँ. वो एक मामूली हाउस्वाइफ की तरह नहीं थी, वो काफी पढ़ी लिखी थी और काफी स्मार्ट भी थी. वह देखने में काफी खुबसूरत थी. उनकी चूची काफी अछी साइज़ की थी और उनका गांड बहुत मस्त था. उनका गांड बिलकुल गोल था. बेटी होने के बाद भी वोह काफी सेक्सी लगती थी. लेकीन इसके पहले मैंने उन्हें कभी ऐसे देखा नहीं था. वह मेरे एक दोस्त की तरह थी.

यह तब की कहानी हैं जब जयपुर में काफी गर्मी पर रही थी. क्योंकी मेरा एक्साम निकट था इसलिए मुझे टेरिस का रूम मिल गया था ताकी मैं मन लगा के पढ़ सकू. परिवार में एक शादी का प्रोग्राम था. इसलिए घर के सब लोग जा रहे थे. मैं नहीं गया क्योंकि मेरे एक्साम सर पे थे. और मेरा ख्याल रखने के लिए मेरी चाची भी नहीं गयी.

सुहानी की तबियत भी कुछ अच्छी नहीं थी. मैं साम को घर वालो को बस स्टेशन छोड के घर आ गया. सुहानी की तबियत ठीक नही थी तो चाची ने कहा डॉक्टर के पास चलते हैं. मेरे पास मोटर साइकिल थी तो बोला आप तयार हो जाओ फिर चलते हैं.

वोह अपने कमरे में चली गयी.थोडी देर बाद वोह तयार होके बाहर आ गयी. उन्होंने सलवार सुइट पहना था. और अपनी चूची पे दुप्पटा डाल रखा था. उस ड्रेस में वो काफी अछी लग रही थी. साम के 7 बजे होंगे और हम मोटर साइकिल पे डॉक्टरसे मिलने के लिए चल पड़े .

कुछ 30 मिनट की दुरी पे डॉक्टर था. हम वहां 7.30 तक पहुँच गए. काफी लाइन लगी थे डॉक्टर से मिलने के लिए. थोडा इन्तेज्ज़ार करने के बाद हम डॉक्टर से मिले. उसने कहा की सुहानी को बुखार हैं, थोडा खाने पे ख्याल रखना और बोला हो सके तो कुछ दिनों तक स्तन का दूध ही पिलाना .

फिर हम दवा लेके वहां से निकले . रात के 9.30 बजे होंगे औत थोरी थोरी बारिस होने लगे थी.मैं बाइक जोर से चला रहा था ताकि हम भींग न जायं. तभी अचानक से एक कार ने मेरा रास्ता काट दिया और मेरा बैलेंस गड़बड़ा गया. मैं बाइक लेके गिर पड़ा और चाची मेरे ऊपर आ गिरी. मैं मुह के बल गिरा और वो मेरे ऊपर आ गिरी और पहली बार मैंने उनकी चूची महसूस की उनकी चूची काफी नरम थी बात उस वक़्त उस सब का टाइम नहीं था. मैं उठा और उनको भी उठाया. मैंने उनसे पुछा की चोट तो नहीं लगी उन्होंने कहा थोरी सी लगी हैं टांगो में . सुहानी ठीक थी.

मैंने उनसे कहा अब की बार दोनों तरफ टांग कर के बैठो . मैंने सुहानी को सामने ले लिया और वोह मेरे पीछे आ गयी. उनको शायद काफी चोट लगी थी, उसने दोनों हाथ मेरे कंधे पे रखे और कहा चलो घर. क्योंकी सुहानी सामने थी तो बार बार उनके चूची मेरी पीठ को छु रही थी. मुझे मज़ा आने लगा.आप ये कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है।

मैंने एक दो बार जान भुज के भी ब्रेक मारा. हर बार उनकी दो नरम नरम चूची मेरी पीठ को छु रही थी .थोरी देर में घर आ गया. मैंन बाइक की सवारी के बहुत मज़े लिए. पहले बार लग रहा था की घर थोडा और दूर होता तो अच्छा होता.

हम लोग घर के अंदर गए. चाची सोफे पे जाके बैठ गई . उसे शायद काफी दर्द हो रहा था. मैंने पुछा कहा पे चोट लागी हैं, तो उन्होंने कहा घुटने के ऊपर. मैंने कहा मुझे दिखाओ ज़रा इस पे वोह थोडा असमंजस में पड़ गयी क्योंकी चोट उनकी जांघ पर लगी थी और शायद वो मुझे अपनी जांघ दीखाने में सरमा रही थी.

मेरे बार बार बोलने पे वो मान गयी. उसने कहा की कपडे बदलने के बाद मैं देख सकता हूँ. फिर वो अपने कमरे में चली गई . थोरी देर बाद ड्रेस बदल के बाहर आयी. उसने एक रात में पहनने की क़मीज़ पहन रखी थी जो उनके गले से लेकर पाऊँ तक आ रही थी.

वोह सोफा पे आके बैठी,मैंने उनको बोला अब दिखाओ तो उन्होंने कहा की ठीक हो जायेगा पर मैं बोलता ही गया. फिर वो मानगई और अपना गाउन ऊपर करने लगी.धीरे से उसने अपना गाउन घुटने तक ऊपर किया. चोट घुटने से थोरी ऊपर लगी थी. अभी मेरे सामने उनकी नंगी टांग दिख रही थी.

मैंने उनका गाउन लेके थोडा ऊपर किया तो मुझे चोट दिख गया. काफी कट गया था. मैंने बोला की मैं दुकान से दवाई ले के अता हूँ. फिर मैं जा कर दवाएं ले आया. मैं जब घर में घुसा तब वो खाना बना रही थी. मैंने बोला मैं कुछ पट्टी ले आया हूँ ताकी चोट के ऊपर लगा सको.

उसने बोला ठीक हैं पहले खाना खा लेते हैं फिर पट्टी बाँध देना लकिन मैंने कहा नहीं अभी करते हैं. फिर उसने बोला ठीक हैं और आके सोफा पे बैठ गई . मुझे अभी बहुत मज़ा आ रहा था क्योंकी मैं एक बार फिर उनकी नंगी जांघ को देख पा रहा था . मैं सोफे के निचे बैठ गया और उसको गाउन उठाने को कहा. धीरे धीरे उसने गाउन को घुटने के ऊपर किया. उनकी टाँगे बिलकुल साफ़ थी , एक भी बाल नहीं था. उनकी जांघ बहुत गोरी और मक्खन क़ि तरह नरम थी उनकी जांघ देख के मेरे सब रिश्ते नाते खिड़की के बाहर चले गए.

इसी मज़े में गलती से गरम पानी हाथ से गिर गया और उनके गाउन पे जा गीरा.पानी काफी गरम था और उन्होंने एक झटका सा दिया. उस झटके में उसका गाउन थोडा ऊपर हो गया और क्योंकी मैं निचे बैठा था, मुझे उनकी पैन्टी दिख गई . उसने लाल रंग की पैन्टी पहने थी.

मुझे यह दृश्य कुछ पलो के लिए ही देखने को मिला. लेकिन उस में मैंने उनकी चुत को देख लिया था. उनकी चुत के वहां बाल बिलकुल नहीं थे. बिलकुल साफ़ थी . वो पक्का चुत के बाल काट देती थी. इससे जादा मुझे कुछ नहीं दिखा. उसकी गाउन पे पानी आ गया था तो उसने अपनी दूसरी टांग पर से भी गाउन उठा लिया.

अभी वो दोनों जांग तक नंगी थी. मैं भगवान को धन्वाद दे रहा था एक्सिडेंट के लिए. उसकी बाद मैंने उनकी चोट पे दवाई लगाई. उन्हें काफी दर्द हो रहा था. मैंने बोला अभी मैं इस्पे पट्टी कर देता हूँ. तो चाची ने बोला ठीक हैं. मैंने उनको टांग थोडा उठाने के लिए बोला ताकी मैं पट्टी बांध सकू.

उन्होंने वैसे ही किया और फिर से मेरी आखों के सामने ज़न्नत दिख रही थी . उनका गाउन उठ गया और उनकी चुत मुझे दिखने लगी .

मैंने उनको बोला की तुम टीवी देखो तो शायद जादा दर्द नहीं होगा, असल मेरा प्लान था क़ि वो आराम से टीवी देखे और मैं आराम से उनकी चुत देखू. मेरा प्लान चल गया और वो टीवी देखने लगी. मैं भी आराम से उनकी चुत देखने लगा. उन्होंने एक लाल चड्डी पहनी थी जो काफी अच्छी ब्रांड का लग रही थी .

चड्डी थोड़ी पारदर्शी थी और मैं उनकी चुत उसकी अन्दर से देख सकता था. चाची की चुत काफी टंच थी . वो टीवी देखने में व्यस्त थी और मैं भी मोका पा के उनकी चुत देख रहा था. उनकी चुत काफी पींक रंग की थी . मेरा लंड तो ९० डिग्री पे खड़ा हो चूका था. थोरी देर बाद उन्होंने पुछा क़ि हो गया.

मैंने फिर जल्दी से पट्टी लगाई और अपने कमरे में चला गया. मैंने तुरंत अपने खड़े हुए लंड को निकाला और हिलाने लगा . थोरी देर में मैंने अपना सारा माल नीकाल दिया. चाची की चुत मेरे आँखों के सामने अभी भी झलक रही थी . फिर थोरी देर बाद मैं निचे आया. चाची तब खाना लगा रही थी.

मैंने पुछा सुहानी कहा हैं तो उन्होंने बोला वो तो सो गयी. अभी मेरे मन में एक ही बात चल रही थी की कैसे फिर से चाची की चुत देखू. फिर मैंने एक प्लान सोचा, की अगर मैं चाची को मेरे कमरे में सोने के लिए मना लू तो रात को सोने के बाद मैं कुछ और कर सकता हूँ.

+मैंने चाची को बोला की सुहानी की तबियत भी ठीक नहीं हैं और आपको भी चोट लगी हैं, इसलिए आज आप लोग मेरे कमरे में सो जाओ ताकी कुछ जरूरत पड़ने पर रात को मैं मदद कर सकू. उन्होंने पहले तो न बोला फिर थोडा बोलेन पर मान गई. मैं बहुत खुस हो रहा था की मेरा हर प्लान कामयाब हो रहा था..

फिर हम खाने के लिए बैठे . फिर अचानक उन्होंने कहा की मैं बहुत अच्छा हूँ और उनका बहुत ख्याल रखता हूँ.. उन्होंने यह भी कहा की मैंने अपने चाचा जैसा नहीं हूँ.. पता नहीं उन्होंने यह क्यों कहा लेकिन जो भी हो मुझे बहुत अच्छा लगा सुन के..

फिर खाने के बाद उन्होंने बोला की सुहानी को लेकर ऊपर जाओ और वो बाकी के काम ख़तम कर के १० मिनट में आ रही हैं. मैंने भी वैसा ही किया. मैंने सुहानी को मेरे बिस्तर पे सुला दिया. और मैं अपनी पढाई वाली टेबल पे जा बैठा. थोड़ी देर में चाची आ गयी. उ

सने अपना गाउन बदल दिया था, क्योंकी उस पे तो मैंने पानी गीरा दिया था. यह गाउन भी कुछ वैसा ही था लेकिन इस में सीने के ऊपर की तरफ कुछ बटन थे. शायद रात को सुहानी को दूध पिलाने के लिए उसने ऐसा गाउन पहना था. मैं बहुत खुस था उसे देख के.

फिर वह बेड के एक तरफ जाकर सो गई . मैंने सारे लाइट बंद कर दिए और अपने टेबल का लम्प जला दिया. सुहानी बीच में सो रही थी और चाची एक तरफ सो रही थी. मेरा टेबल उसी तरफ था. वो सर पे एक हाथ रख कर सीधे हो के सो रही थी. मैं अपनी किताब छोड़ के सिफ चाची को ही देख रहा था. उनकी दोनों चूची गाउन के ऊपर उभर के आ रही थी . उनका पेट भी एक दम चिकना था.

मैंने कभी चाची को इस नज़र नहीं देखा था. लेकिन अभी मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. थोरी देर बाद अचानक उन्होंने मुझे आवाज़ दी और कहा क़ि एक तकिया ले आओ ताकी वो अपनी टांगो को उसपे रखे. मैंने एक बड़ा सा तकिया ला दिया. फिर मैंने उनसे कहा की अपनी गाउन को थोडा ऊपर कर ले ताके चोट खुले में रहे.

चोट तो एक बहाना था मैं तो उनके नंगी जांघ देखना चाहता था. इस बार चाची ने एक बार में ही मेरी बात मान ली . उन्होंने अपनी गाउन को ऊपर कर लिया और अपनी नंगी जांघ को मेरे सामने खोल दिया. मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया. गरमी भी काफी थी, मैंने सोचा टॉयलेट जाकर थोडा लंड को आराम दे आता हूँ.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *