मूवी हॉल में गर्लफ्रेंड और उसकी सहेलियां

मूवी हॉल में गर्लफ्रेंड और उसकी सहेलियां

हेलो फ्रेंड ई आम विवान , गुड लुकिंग नॉट फेयर / नॉट ब्लैक गाए (गेहुंआ रंग )..उम्र 25 साल 170 cm हाइट , Chudai Antarvasna Kamukta Hindi sex Indian Sex Hindi Sex Kahani Hindi Sex Stories लण्ड का साइज 7.5 इनचेस एंड सरकमफेरेंस ऑफ़ 3 इनचेस (पूरा सीधा लण्ड है पिंक टॉप मोटा सा टॉप में सुसु का छेद बड़ा है )… मैंने 1 साल अपने जिम में दिए है जिससे थोड़े बहुत मसल्स और चेस्ट बाहर को आ गए हैं मै प्रॉपर लखनऊ से हूँ .. कुछ महीनो के लिए दिल्ली में हु .. मै डेली यहाँ मस्तराम डॉट नेट पर सेक्स स्टोरीज का आनंद लेता हूँ और कितनी ही बार हाथ गाडी चलता हूँ ..आज मैंने भी सोचा की अपनी कहानी लिखी जाए .. मेरे जीवन में भी बहुत से मौके आये और बहुत से मौकों में चौके भी मारे ..उनमे से ही एक कहानी आज मै यहाँ पेश कर रहा हूँ .. पसंद आये तो कम्प्लीमेंट्स और न पसंद आये तो कम्प्लाइंस के लिए ..मेरी ईमेल id पर आप मेल कर सकते हैं ..वैसे फेसबुक पर भी आप यही id से मुझे ऐड कर सकते हैं .. विषेशकर मेरी महिला फ्रेंड्स उफ़ उनके बूब्स आई लव बूब्स मोस्ट इन गर्ल्स बॉडी ‘स . और उस पर निप्पल्स बड़े हो तो सोने पे सुहागा ..गाइस मैं one girl man हुवा करता था ..क्यूंकि मेरी GF ने ही मुझे सब कुछ सिखाया ..मै बहुत सीधा टाइप का था .. लेकिन मै कभी अपनी हदें पार नहीं करता था ..तो मेरी यह स्टोरी मेरी गर्लफ्रेंड के बारे में है जिसका नाम आयशा है ..उसका फिगर ३६ बी -30- 34 है .. गेंहुआ रंग .. हमारे रिलेशन को दो साल हो चुके थे हमने खूब सेक्स एन्जॉय करा ..और बेहद प्यार भी करता था हमारे बिच ..इतना की उसकी सहेलियां मुझे मेरी GF के साथ देख कर जलती थी .. एक दिन हम दोनों ने मूवी देखना का प्लान बनाया और हम पैसिफिक मॉल में मूवी देखने गए .. मेरा तो हमेशा से मन हैं की हर लड़की को चोदु ..हर तरीके से चोदु ..हर जगह चोदु .जब तक वो रो न दे . तो मेरे दिमाग में खुरापाती ख़याल आने लागे थे .. मूवी का नाम -जिस्म 2. हम दोनों फिक्स्ड टाइम में पैसिफिक मॉल में पहुंच गए .. हम लोग अपनी सीट्स पर पहुंचे हाँ कार्नर सीट्स लेकिन टॉप से 2nd में राइट कॉर्नर्स .. लेकिन हम थोड़ा लेट हो गए थे .. तो ट्रेलर चालु था दूसरी मूवी का .. फिलहाल हम अपनी सीट्स में पहुंचे और बैठ गए और देखा की हमारी बगल वाली सीट्स में कोई नहीं था और दूसरे कार्नर में सायद एक कपल और बैठा था .. लाइट्स टोटली ऑफ हो गई थी मतलब फूल अँधेरा था .. मैं सबसे किनारे में था . मैंने ढीली जीन्स और एक टीशर्ट और GF ने भी एक ढीली जीन्स और ढीला टॉप पहना था जिसकी बाहें भी काफी चौड़ी थी जो की मेरी मैडम का प्लान था.. हम दोनों मूवी देखने लगे करीब आधे घंटे बाद हम दोनों थोड़ा अपनी हरकतें करने लगे ..वो मुझको सहलाने लगी .. मेरी कमजोरी है मै उसके सिर्फ टच से गरम हो जाता हूँ ..उसका टच ही इतना ख़ास था की कुछ मिंटो में मेरे लण्ड महाराज गरम होकर हरकतें करने लग गए ओर हिलने लगे मेरी जीन्स में .. अब उसने अपना एक हाथ मेरे टीशर्ट के किनारे से डाल ..और मेरे चेस्ट पर उंगलिया फेरने लगी मेरे चेस्ट में बाल है जो उसको बहुत पसंद है ..धीरे धीरे वो मेरे चेस्ट के निप्पल्स को सहलाने लगी जिससे मै गरम हो गया .. आप लोग यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है | और लण्ड फन -फनाने लगा ..अब वो देर न करते हुए ..वही हाथ मेरे जीन्स के अंदर डालने लगी ..जो पहले से मैंने बेल्ट ढीली कर ली थी ..और वो मेरे लण्ड के फ्रंट को अपने अंगूठे से मेरी चढ़ी के ऊपर से ही दबाने लगी .. जिससे में पगला गया .. अब उसने मेरी अमूल माचो चढी के बिच से मेरा मजबुत लम्बा हार्ड तगड़ा मोटा लंड जीन्स के अंदर ही लेकिन चढ़ी के बिच के छेद से बाहर निकाल लिए और धीरे धीरे मसलने लगी …अब मैंने भी कंट्रोल छोड़ दिए .. और उसको किस करने लगा ..बेतहाशा ..उसके रस भरे होठों को चूस रहा था …और अपने एक हाथ को उसके टॉप के निचे से (उसने अपने ऊपर बैग रख लिए था जिससे कोई देखे तो भी शक न हो ) ..उसके समीज के अंदर से ..उसके ब्रा के ऊपर .से ही उसके निप्पल्स को ऊँगली से कसके मसलने लगा जिससे उसने स्मूच छोड़ कर सांस लेने के लिए होंठ अलग करे ..और तुरंत ही मैंने फिर से उसको होठों को गप्प से अंदर कर लिया ..और में उसके होठों खुब चुसाई करने लगा .. फिर मैंने हाँथ पीछे लेजाकर उसकी ब्रा खोल्दी सिंगल हैंड से ..जिसमे मै बहुत एक्सपर्ट हूँ .. ब्रा खोलते ही उसके भारी बोूब्स जो 36 b के है बाहर को हो गए और मैंने तुरंत ही उसके ब्रा के अंदर हाँथ डाल और उसके निप्पल्स को रगड़ने मसलने लगा .. अब मैंने उसका टॉप ऊपर करके उसके राइट बूब्स को हल्का बाहर निकाला उसके निप्पल्स को खूब चूसा लेकिन उस पोजीशन में हो नहीं पाया जादा ..लेकिन वो गरम हो गई ..जिससे वो बहुत जादा गरम हो गई और अपनी आँखें बंद कर ली .. और मेरे लण्ड पर अपनी पकड़ और मजबुत कर्ली और आगे पीछे करने लगी ..जिसपर मेरे लण्ड में नसे फटने को होगयी ..हमारी किस अभी भी जारी थी .. लेकिन उसके तरफ से स्लो एंड स्टेडी हो गयी थी .. मै उसके बड़े बूब्स को जो मेरे हाथ में भी पूरे नहीं आ रहे थे .. और मै उसके राइट बूब्स को अपने लेफ्ट हैंड से मसल रहा था ..खुब दबा रहा था .. अब उसने होंठ हटाए और आहें भरने लगी .. फिर मैंने आंव देखा न ताव उसी हाथ को .. उसकी जीन्स तक ले गया …और उसकी जीन्स में डालने लगा मैंने जीन्स के अंदर से ही उसकी पैंटी के अंदर ही डालते ही देखा तो उसकी पैंटी गीली थी … वो बहुत गरमा गई .. और कान के पास आकर बोली आआआह्ह जान … चोद दो मुझे … फिंगरिंग करो … आप लोग यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है | और उसने अपने टाँगे चौड़ी कर ली ताकि में आसानी से सब कुछ कर सकूँ .. मैंने उसकी जीन्स को थोड़ा निचे के साइड खिसकाई की उसके चूत के लिए थोड़ी जगह बन जाए .. फिर मैंने सीधे ही पहले एक ऊँगली डाली ही थी की वो पगला ही गयी ..और मेरे लण्ड को तेजी से दबाने ..मसलने लगी .. फिर कुछ 1 मिनट तक मैंने एक ऊँगली से उसकी चूत की चुदाई करी … फिर वो बोली जान दूसरी पेल दो .. मैंने झट से दूसरी ऊँगली भी डाल दी ..or लगा उसको चोदने … उसने कहा जान तेज तेज करो … मैंने स्पीड बधाई ….करीब 3 से 5 मिनट लगातार फिंगरिंग करी हो गई ..की वो एकदम से अकड़ ही गयी ..और मेरे लण्ड को जैसे नोच ही लिए हो .. और तब तक उसका पानी निकल गया .. फिर उसने अपनी पकड़ ढीली कर्ली … और उसकी चुत का पानी मेरी दोनों ऊँगली को पूरा चिप -चिप सा कर दिए .. मैंने हाँथ निकाला और तुरंत उसके स्कार्फ़ से अपना हाथ पोछा .. वो अब संतोष पा चुकी थी .. लेकिन मैंने भी उसको बोला अब मेरी बारी … वो उसने कहा जान आज बहुत मजा आया >>सच्ची >> बोलो क्या करना है जान मैंने बोला शक तो नहीं कर सकती ..हैंड वर्क कर दो .. उसने अपने आगे वाली सीट्स को देखा की कोई पीछे तो नहीं देख रहा .. जब संतुष्ट हुयी .. तो उसने वही बैग (पिट्ठू बैग ) मुझे दिए और धीरे से मेरा लण्ड मेरे जीन्स के बटन को ज़िप खोलकर बाहर निकाल लिए … मेरी आदत है नहाने के बाद लण्ड को तेल लगने की और हलकी मालिश देने की . उसने जैसे ही जीन्स से बाहर मेरा लम्बा मोटा सीधा लण्ड निकला तो हलकी सी स्मेल आई तेल वाली ..जिससे स्मेल करके वो पागल हो गयी .. एक बार आगे फिर देखा .. और हल्का सा निचे झुकी और एक बार में मेरा आधा लण्ड अपने मुंह के अंदर गप्प डाल लिया ..और जल्दी जल्दी 6 से 7 बार अंदर बाहर की इसी बिच वो उठने लगी तो मैंने बैग उसके ऊपर से रख लिए और दबा दिए उसके मुंह को अपने लंड के ऊपर और जबर दस्ती पूरा डालने लगा ..बहुत लम्बा लंड था तो ..पूरा तो कभी ले नहीं पायी ..लेती तो आंसू आ जाते थे मुंह में … फिर उसकी सांस उखड़ी तो झटसे अचानक ऊपर हुयी .. और हलके आंसू आ गए थे .. उसने अपना मुंह को और मेरे लण्ड को स्कार्फ़ से पोछा .. और अब अपने राइट हैंड से मेरे को हैंडवर्क देने लगी तेज तेज बहुत तेज अब में भी आँखें बंद कर के बैठ गया .. और मजा लेने लगा … उसने सपीड तेज बधाई ..और मुझे काफी टाइम लगता है तो …उसने बोला आने वाला है … जान ..मैंने बोला >> बस थोड़ा और .. मैंने अपने हाँथ को उसके हाँथ के ऊपर रख कर आगे पीछे करने लगा .. फिर थोड़ी देर बाद उसके हाँथ दर्द करने लगे तो हटा लिया उसने हाँथ हटाया ही था की साला इंटरवल लिखने से पहले ही कमीनो ने लाइट जल दी . ओर कंट्रोल नहीं कर पा रहा था ..वैसे भी में चरम सिमा में था ..फिर में खुद ही अपने लण्ड को खुब तेज तेज आगे पीछे करने लगा ..कुछ ही सेकण्ड्स करने के बाद मेरा पानी .. तेज स्पीड के साथ निकला जो सामने वाली सीट पर जाकर छपाक से लगा थैंक गॉड सीट बड़ी होती है मैंने चैन की सांस ली आआआह्ह्ह्ह मैंने देखा की आयशा अपने कपडे सही कर रही है .. और सब लोग सीट्स से उठने लगते हैं ..फिर आयशा ने बैग तुरंत मेरे लंड के ऊपर रख और बैग के निचे ही उसका स्कार्फ़ था .. जिससे मैंने झट्ट से लण्ड पोछा और अंडरवीयर में डालने का टाइम नहीं था तो ..ऐसे ही जीन्स के अंदर डालकर ज़िप बंद कर ली ..और बेल्ट हलकी टाइट करली और तुरंत बैग आगे को लेकर उठने लगा ..हमदोनो साथ ही उठे थे | आप लोग यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है | तो जैसे ही अपने एन्ड से बाहर निकलने लगे तो आयशा ने देखा की हमारी पीछे सीट्स में उसकी एक सीनियर मैम सुरभि और एक बैच मेट प्रियंका थी ..जो उठ कर निकल रही थी ..उन्होंने आयशा को देख कर तुरंत ही बोला … आयशा सोच में डूब गई .. और सोचने लगी की क्या बोलूं … उसने बोला प्रियंका तू यहां बताया नहीं में तेरे साथ ही आ जाती और मैम की तरफ देख कर बोली गुड आफ्टर नून मैम .. (बैच मेट प्रियंका को आयशा ने हमारे बारे में बता रखी थी पहले से ही ..इवन मै भी प्रियंका को जानता हूँ पिक्स देखी हैं और कई बार छोटी मीटिंग्स हुयी हैं लेकिन मैम को भी कुछ समझ नहीं आया और नार्मल रियेक्ट कर रही थी थोड़ा अटपटा सा .. फिलहाल इंटरवल में अब हम्म चारो बाहर आयें में टॉयलेट चला गया ..और गर्ल्स भी वाशरूम की और निकल गए .. में वापस आया तो प्रियंका मेरी गर्लफ्रेंड आयशा को अलग ले जाकर बात कर रही थी और उसकी सीनियर मैम सुरभि .. पॉपकॉर्न लेने लगी थी .. फिर प्रियंका ने मुझे देखा तो वो लोग अलग हो गए .. और नार्मल रियेक्ट करने लगे ..फिर हम इंटरवल के बाद देखने गए और इस बार सीट्स खाली ही थी तो वो दोनों गर्ल्स भी हमारे साथ बैठ गईं .. राइट कार्नर में .. सुरभि का फिगर अंदाजन ( 36 -30-36) होगा और प्रियंका का (34-28-34) और साला मूवी स्टार्ट हुयी तो सीन्स अभी आने स्टार्ट हुआ मै फिर गरम होने लगा था लेकिन डर लग रहा था ..तो बस कोस रहा था अपनी किस्मत को शायद आयशा भी गरमा रही थी .. तो वो मेरे कान में आकर बोली .. जान .. प्रियंका ने सब देखा हमारा सीन्स .. मै चौक गया शक तो था ..लेकिन आयशा बोली मुझे खुद प्रियंका ने बताया .. में थोड़ा शर्म महसूस करने लगा ..और सायद थोड़ी वो भी .. फिर मैंने पूछा और तुम्हारी सीनियर मैम सुरभि ने देखा क्या ?? आयशा बोली प्रियंका ने तो अपना बताया ..और मैम ने प्रियंका से ऐसी कोई बात नहीं करी ..तो पता नहीं मैम ने देखा की नहीं ..मैंने बोला समझा लेना प्रियंका को की वो मैम को न बताये .. फिलहाल हम मूवी देखने लगे … मै गरम हो रहा था तो उसके साइड से स्लेव्स में हल्का हाँथ डालकर बूब्स टच करने लगा ..तो आयशा ने जो बैग ढीला पकड़ा था ..उसने अपने बूब्स तक कर लिए .. और मैंने तुरंत ही उसकी ब्रा खोल दी ..और झट से एक हाँथ उसके बूब्स में निप्प्प्ल्स की ओर ले गया …और भींचने लगा …कसके ..मसलने लगा ..वो गरम हो रही थी …प्रियंका को हमने इग्नोर करना स्टार्ट करा और वो मूवी देख रही थी .. फिर हलकी सी किस करने लगा …जब देखा प्रियंका बिजी है मूवी में .. लेकिन क्या पता था वो अपनी चोर निगाहों से देख रही थी ..और देखे भी क्यों नहीं हम कारनामा ऐसा जो कर रहे थे..हम खुब एक दूसरे के होठों को चूस रहे थे ..मै उसके गर्दन पर भी किश कर रहा था तो वो गरम हो गई .. और मैंने फिर से अपना हाथ उसकी चुत तक ले जाने लगा लेकिन जीन्स टाइट थी इस टाइम तो .. देर से गया हाथ लेकिन थोड़ा ही गया | आप लोग यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है | मैंने ऊँगली करनी चाही उसने पैर फेला लिए .. में जैसे ही ऊँगली करने लगा तो बैग हिलने लगा ..जिससे प्रियंका ने एक झटके में हमे देखा लेकिन आयशा मेरी तरफ मुंह कर रखी थी मैंने देखा की उसने देख लिया ..और फिर आगे मुंह कर लिए उसे मैंने इग्नोर किया .. और मेरे को बहुत तेज एक्सक्टमेंट होने लगी .. मैंने उसका हाथ लिए .. और अपने लण्ड के ऊपर जीन्स से ही रख दिए .. और वो अब उसको दबाने लगी .. फिर मैंने उसकी चुत में दूसरी ऊँगली डाली .. तो और तेज तेज ऊँगली डालने लगा ..तो आयशा ने मेरा लण्ड कसके दबोच रही थी और जीन्स के उपरसे ही .. मेरे लण्ड को मजबुत पकड़ बना कर कसके दबा रही थी .. फिर उसका पानी निकल गया … उसने लम्बी सांस ली और उसने मेरे लण्ड से तुरंत हाँथ हटा लिए जैसे …उसको तुरंत याद आया की बगल में कोई और भी है …फिर उसने मेरे हाँथ को .. पोछा .. और हलके से हाथ डालकर उसने जीन्स सही की .. फिर मैंने उसका हाँथ जबरदस्ती अपने लण्ड पर हाथ रख दिए ..तो उसने हटा लिए कहा जान कोई और भी है ..तो मैंने बोला तो क्या हुआ मैम दुर है .. प्रियंका ने देखा भी तो समझा लेना …लेकिन प्लीज करदो कंट्रोल नहीं हो रहा .. उसने मुंह बना कर बैग मेरे ऊपर फेक दिया .. और कहा थोड़ी तेज आवाज में की ताकि प्रियंका सुन सके .. लो अब तुम पकड़ो इतनी देर से पकड़ रखा है .. मेरी तरफ देख कर बोला में उसकी तरफ देख रहा तो देखा प्रियंका ..आयशा की तरफ देख रही थी .. मैंने देखा तो उसने नजरे चुरा ली ..फिर हम नार्मल हो गए .. फिर थोड़ी देर बाद आयशा ने हाँथ डाला और इस बार मैंने पहले से ही ज़िप खोल राखी थी ..वो थोड़ी चौंकी और फिर शरारत वाली हंसी में हसी … और कसके झटके से ही तुरंत दबोच लिया | आप लोग यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है | और तेज तेज हिलाने लगी .. जिससे न चाह कर भी बैग हिलने लगा .. और प्रियंका ने फिर मेरी तरफ देखा … मैंने अवाइड करा .. वो तेज तेज कर रही थी ..हमे पता ही नहीं चला कब मूवी का लास्ट सीन्स खत्म होने जा रहा और देखा तो मेरा फॉल हुआ ही नहीं था की लाइट जल गई ..मैं डर गया था इवन आयशा भी ..की आज तो कुछ पता ही नहीं चला .. तो में डर के जल्दी से अपना लण्ड अंदर डालने लगा ..तब तक प्रियंका ने बोला .. अरे आयशा ..बाद में हिला लेना अब … एक बार तो हो गया था न उसका .. तो आयशा चौंक गयी (उसने ये बात बाद में बताया फोन में ) और फिर आयशा थोड़ा सरमाई और ढीठपन में बोली चल अच्छा धीरे बोल मैम सुन लेंगी .. इतने में प्रियंका आयशा के कान में बोली अरे आयशा मैडम अपनी ब्रा तो बंद करले वो हलकी हसी और गुस्से में बोली तू ही बंद करदे न .. प्रियंका बोली ला बंद कर दूँ नहीं तो सबसे आखिरी में निकलेंगे ..फिर प्रियंका ने उसकी जल्दी से ब्रा बंद करी .. मैंने देखा तो चौंका .. फिलहाल हम उस दिन अपने अपने रस्ते निकल गए मूवी के बाद .. मै अपने घर की ओर और आयशा अपने हॉस्टल की ओर यह थी मेरी कहानी अपनी राये शिकायतें तारीफें .. कृपया इस मेल में दें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *