बस में मिली बेडरूम में चुत चुदाई 1

बस में मिली बेडरूम में चुत चुदाई 1

मेरा नाम हेमंत है। मैं दिल्ली का रहने वाला हूँ। मेरी उम्र 22 साल है। Antarvasna Kamukta Hindi sex Indian Sex Hindi Sex Kahani Hindi Sex Stories Antarvasna1.com मेरा कद 5’9″ है और लंड 5″ लंबा 3″ मोटा है। यह घटना 2012 की है। तब मैं लक्ष्मी नगर कोचिंग करने जाता था। एक दिन मैं कोचिंग से पढ कर घर आने के लिए बस का इंतजार कर रहा था। बस आने पर मैं बस में चढ गया और टिकट लेने के लिए वॉलेट निकालने लगा जो की मेरी पैंट की पिछली पॉकेट में था। पॉकेट में हाथ डालते समय मेरा हाथ एक लडकी की चुत पर जाकर लगा, जो ठीक मेरे पीछे खडी थी। मैंने जब मुडकर देखा तो पता चला की मेरा हाथ कहाँ लगा। वो एक स्कूल की लडकी थी। मेरा हाथ उसकी चुत पर लगा तो मैं डर गया। और सोचने लगा की अब ये मुझे डांटेगी और बस में और लोग भी कुछ बोलेंगे। लेकिन उस लडकी ने ऐसा कुछ नहीं किया। मैंने टिकट ली और सीटो के बीच गली में खडा हो गया। वो लडकी भी टिकट लेकर मेरे पास आकर खडी हो गयी। आप लोग यह कहानी मस्ताराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है | फिर उस लडकी ने मेरा हाथ पकड कर खुद अपनी चुत पर लगा लिया। मैंने उसके चेहरे को देखा तो वो मुस्कुरा रही थी। अब मेरा डर खत्म हो चुका था और मैं भी उसकी चुत के मजे लेने लगा। बस में कोई देख ना ले इसलिए मैंने अपना हाथ हटा लिया। कुछ देर बाद उसका स्टॉप आ गया वहाँ उस लडकी ने मेरा हाथ पकड कर नीचे उतरने का इशारा किया।
मैं उतर गया। उस लडकी ने मुझसे पुछा- तुम्हारा नाम क्या है?
मैं- हेमंत। तुम्हारा? और तुमने मुझे यहाँ उतरने को क्यो बोला?
वो- मेरा नाम दिव्या है। और दोस्ती करनी है तुमसे। तुम्हारा हाथ जब मेरी वजाईना पर लगा तो मजा आ गया। तुम लडकी को पटाने मैं एक्सपर्ट लगते हो।
मैं- वो मेरा हाथ तो गलती से लग गया था। और मैं कोई एक्सपर्ट नहीं हूँ।
वो- अच्छा… तुम्हारी कोई जीएफ है?
मैं- नहीं..
वो- (मुस्कुराते हुए) तुम्हारी गलती से तुम्हे एक जीएफ भी मिल गई।
मैं- क्यो तुम्हारा कोई बीएफ नहीं है क्या? या अब बदल रही हो?
वो- नहीं है। तुम बनोगे?
मैं- ठीक है। अब जीएफ बना कर भी देख लेते हैं।
फिर उसने मेरा मोबाइल नंबर ले लिया। और अपने घर की तरफ जाने लगी। मैं भी बस पकड कर अपने घर आ गया।
रात को 10.30 बजे के करीब एक नंबर से कॉल आया। ये नंबर दिव्या का था। हमारी 40 मिनट के करीब बाते हुई। उसने मुझसे अगले दिन लक्ष्मी नगर बस स्टैंड पर मिलने को कहा। मैंने भी हाँ कह दिया।
कुछ दिनो तक हम इधर- उधर की बाते करते रहे। एक दिन रात में 5 मिनट इधर-उधर की बाते करने के बाद वो नॉन-वेज बाते करने लगी….

कहानी जारी है …. आगे की कहानी पढने के लिए निचे दिए गए पेज नंबर पर क्लिक करे …|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *