नेपाली लड़की की साथ मस्ती

नेपाली लड़की की साथ मस्ती

ऑफिस के चपरासी बाबू ने आवाज लगाई, “मुस्कान मेडम आप का लेटर, प्रमोद मिश्रा सर ने भेजा हैं” (ऑफिस की एकमात्र नेपाली स्टाफ मुस्कान कोइराला को दिल्ली को यहाँ अब तक 2 साल का अनुभव था.)

मुस्कान, “ओह थेंक यू बाबु अंकल.”
लेकिन जैसे ही मुस्कान ने लेटर खोला उसकी नेपाली आँखे जो पहले से छोटी थी और भी छोटी हो गई. यह उसके तबादले का लेटर था और उसका तबादला यहाँ से 250 किलोमीटर दूर दिल्ली में हुआ था. अभी तो उसे लगा था की उसकी जगह सेट हुई थी. उसने नेपाली कोलिनी में एक मकान लिया था और सेटल हुई थी. उसके बॉयफ्रेंड को भी उसने बुलाने की सोच रखी थी और अब यह ऑर्डर. वो अपनी आँखों के कौनो से आंसू की बूंदों को पोंछते हुए प्रमोद मिश्रा के केबिन में गई. मिश्रा जी यहाँ के मेनेजर थे और कहते हैं की मिश्रा जी की इजाजत के बिना ऑफिस के अंदर हवा भी रुख नहीं बदलती. इसलिए मुस्कान को पता था की इस तबादले के पीछे जरुर प्रमोद मिश्रा का ही हाथ हैं.

“अरे मुस्कान आओ. लेटर मिला आप को?”

“सर यह क्या हैं, मैं इतनी महनत से काम करती हूँ और आप ने इसकी जरा भी सराहना नहीं की. मुझे मुश्किल से सेट होने का टाइम मिला था. पिछले कुछ हफ्तों पहले मुझे नेपाली कोलिनी में मकान मिला हैं. सर प्लीज़ हेल्प कीजिए मेरा; मुझे पता हैं की अगर आप चाहें तो यह ऑर्डर रुक सकता हैं.”

प्रमोद मिश्रा ने लेपटोप के ऊपर से नजर हटाये बिना ही कहा, “चाहता तो मैं बहुत कुछ हूँ, पर सब पूरा थोड़ी होता हैं.”

अभी मुस्कान समझ गई की मिश्रा जी क्या कह रहे हैं. दरअसल मिश्रा जी एक नम्बर के चुदक्कड इंसान हैं और उन्होंने इस नेपाली लड़की को फांसने की पूरी कोशिश की थी लेकिन नेपाली लड़की मुस्कान आजतक उनकी चुंगल से बचती आई थी इसलिए मिश्रा जी ने सोचा की चूत नहीं दे रही तो हटाओ साली को इसका काम भी क्या हैं यहाँ. मुस्कान कुछ बोलने की अवस्था में नहीं थी फिर भी उसने धीरे से कहा, “आप को क्या चाहिए मिश्रा जी आप खुल के बताइए. अगर दो पांच हजार किसी को दे के भी बात बन सकती हैं तो मैं उसके लिए रेडी हूँ.”

मिश्रा जी ने कान को पकड़ते हुए कहा, “उपरवाला बचाए रिश्वत खाने खिलाने से मुस्कान. आप ने कभी शिल्पा और मंदाकीनी को देखा हैं हमारे साथ कैसे रहती हैं. हम भी उनका कितना ख्याल रखते हैं. मंदाकिनी को साल में दुगुना इन्क्रीमेंट दिलवाया और शिल्पा को कंपनी से ढाई लाख का लोन हम ही तो पास करवा के लाये.”

मुस्कान की धीरज अब कम हो रही थी. इस नेपाली लड़की के गोरे गाल लाल हो गए थे, क्यूंकि उसे गुस्सा और टेंशन दोनों लगी हुई थी. उसने मिश्रा जी से कहा, “आप खुल के बताइए मिश्रा जी. हम भी कुछ भी कर सकते हैं अपने इस तबादले को रोकने के लिए.”
मिश्रा जी अपने लंड को मुस्कान देखे ना वैसे टेबल के निचे रगड़ते हुए बोले, “यह हुई ना बात कुछ. आप हमारे होटल के रूम में आ जाइए कभी दिल बहलाने के लिए. वैसे आप की सेलरी और दूसरा जिम्मा हमारे पे रहेगा. अगर आप अभी कमा रहे हैं उसमें 33% इनक्रीस ना दिलवाएं तो आप जूता मार देना हमारे सर के उपर.”

मुस्कान, “और मेरा तबादला?”

मिश्रा हंस के बोला, “रुक गया ही समझो. आ जाओ मेरे पास.”

मुस्कान ने पीछे देखा और वो धीरे से मिश्रा के नजदीक गई. मिश्रा अपनी जगह से उठा और उसने नेपाली बदन को चारो तरफ से देखा. उसने मुस्कान की गांड के उपर एक चमाट लगाई और बोला, “बड़ा कसा हुआ बदन हैं आप का. नेपाली लड़की के साथ हमारा आज तक मुकाबला नहीं हुआ है कभी बिस्तर पे. मजा कराओगी हमें?”

मुस्कान कुछ नहीं बोली. बेचारी को तबादला रुकवाने के लिए इस सेक्स के भूखे बूढ़े भेड़िये को अपनी नुमाइश देनी पड़ रही थी. मिश्रा ने अपने इंटरकोम से बहार फोन लगाया, “हेल्लो, बाबु मेरे ऑफिस के बहार डू नोट डिस्टर्ब की साइन लगा दे. और अनिरुद्ध सर को बोलना की वो मेरी केबिन में आधे घंटे के बाद आये.”

बाबुलाल ने फोन रखा और वो समझ गया की साहब आज नेपाली खाना खायेंगे. इधर मुस्कान के चुंचो पर प्रमोद मिश्रा के गंदे हाथ फिरने लगे थे. प्रमोद ने बाबूलाल से बात करने के बाद ऑफिस को अंदर से बंध किया था. अब वो कुर्सी में बैठा और उसने अपने लंड को बहार निकाला. उसने मुस्कान को इशारा किया. मुस्कान उसकी दोनों टांगो के बिच में आके बैठ गई. मिश्रा ने मुस्कान के बालो को अपने हाथ में लिया और इस भरी हुई जवानी को अपने लंड के तरफ खिंचा. मुस्कान ने मुहं खोला और मिश्रा का काला मोटा लंड उसके मुहं में भर गया. मिश्रा ने आँखे बंध की लेकिन उसने अभी भी मुस्कान की छोटी पीछे से पकड़ के रखी थी. मुस्कान ने एक हाथ से मिश्रा जी के लंड के निचे के भाग को पकड़ के रखा और ऊपर से वो उनके लंड को चूस रही थी. मिश्रा जी कुर्सी में अपनी गांड को धीरे धीरे उचका के लंड का मार मुस्कान के मुहं में देने लगे. आह आह की हलकी आवाज करते करते मुखमैथुन यूँ ही कुछ 10 मिनिट चलता रहा.

10 मिनिट के बाद मिश्रा जी के लौड़े ने पिचकारी छोड़ी और इस नेपाली लड़की का मुहं वीर्य के भार से लद सा गया. मुस्कान ने अपनी रुमाल निकाल के वीर्य को पौंछना चाहा ललेकिन उसके पहले मिश्रा जी ने उसे एक टिश्यू दे दिया. मुस्कान ने अपने मुहं में से सारा वीर्य टिश्यू पे निकाला और वो अपने होंठो पे लगी बुँदे भी साफ़ करने लगी. मिश्रा जी ने अपनी पेंट ठीक की और वो मुस्कान को कंधे से पकड़ के खड़ा करने लगे. उन्होंने मुस्कान को कहा, “बड़े मजे का अनुभव करवाया अपने मुहं से आपने तो. उस तबादले के लेटर को फाड़ दो और जा के काम देखो. कल मैं आप को मोबाइल पे फोन करूँगा. आप होटल पे आ जाना फिर और फायदे आप के लिए करवा दूंगा.”

नेपाली लड़की ने लेटर फाड़ा और वो अपनी सेक्सी गांड हिलाते हुए कमरे से बहार निकल गई. मिश्रा जी अगले दिन कैसे इस लड़की को चोदना हैं उसकी प्लानिंग अपने दिमाग में करने लगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *