घपाघप ऊपर नीचे उठक बैठक

घपाघप ऊपर नीचे उठक बैठक

दोस्तों ये बात जो आज मै आप लोगो को मस्तराम डॉट नेट के Chudai Antarvasna Kamukta Hindi sex Indian Sex Hindi Sex Kahani Hindi Sex Stories माध्यम से बताने जा रहा हु थोड़ी पुरानी बात है ढेर सारी कहानिया पढ़ कर मेरे मन में भी इच्छा हुयी क्यों न मै भी अपनी कहानी आप लोगो से शेयर करू सो आज लिख दिया .. दसवी की परीक्षा के बाद मैंने जिद पकड़ ली की अब की बार मुझे चाचा की ससुराल जाना ही है। वहाँ मुझे बहुत अच्छा लगता था। हाला कि मेरे चाचा की ससुराल जिसे मैं नाना का गाँव कहता था बहुत ही छोटा सा गाँव है। मेरे चाचा के कोई औलाद न होने के कारण चाचा ने मुझे गोद ले लिया था इसलिए वहाँ भी मेरी आवभगत बिलकुल सगे नाती जैसी होती थी। प्राची मौसी जो की मेरे नाना की सबसे छोटी संतान हैं मुझसे बहुत ही हिली थी । वह नाना की सबसे छोटी संतान थी बाकी दोन बेटे जोकि उनसे बहुत बड़े थे पटना और बनारस में अपने परिवार के साथ रहते थे। बस कभी-कभार गर्मियों में आ जाते थे। वह लोग बहुत अमीर थे। मेरे नाना भी अपने गाँव के जमीदार थे। बहुत सारे खेत थे। बड़ा सा आम का बाग था। तीन-चार पंप थे। ट्रेक्टर था। प्राची मौसी मुझे बहुत प्यार करती थी । थी वह मुझसे बस तीन साल बड़ी लेिकन वह बहुत दबंग लड़की थी जब भी मैं गर्मियों में जाता तो मुझे वहाँ बहुत मजा आता। आम के बाग की रखवाली करते और घूमते। गाँव में नाना अकेले ठाकु र थे बाकी अहीर और दूसरी छोटी जाती के लोग ही रहते थे। प्राची मौसी को सभी बीट्टो कहते। चूँकि इससे पहले मुझे वहाँ गये तीन साल हो गये थे, इसिलए मैं काफी रोमांचित था। मैं खुद अब पहले वाला मंथन मोदी नही रह गया था तो वह भला अब पहले जैसी कहाँ होंगी ! वहाँ पहुचकर देखा तो वह सचमुच मे बदल गई थी । अब वह जवान हो गयी थी ।आप लोग यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है | पूरा शरीर भर गया था। पहले वह घाघरी और चोली पहनती थथी , लेिकन इस बार उन्होने शलवार कमीज पहन रक्खी थी। मुझे देखते ही उन्होने मुझे लिपटा लिया हालाँकि यह उनका बस प्यार था, लेिकन मुझे अजीब-सा लगा। मेरा सीना उनकी बड़ी छातियो से जब िमला तो मेरी हालत अजीब हो गयी। ऐसा उन्होने पहली बार ये सब नहीकिया था, बिल्क वह पहले भी ऐसे ही मिलती थी , लेकिन अब हम बदल गये थे। वह बड़ी हो गई थी और मै जवान हो रहा था। साथ पढ़ने वाले लड़क के बीच जो जवानी के लक्षण से अनजान होते थे वह भी सब जानने लगते थे। मेरे अन्दर भी इस उमर् की स्वाभाविक क्रियाए पनप गयी थी । बिल्क कुछ अधिक ही पता चला की बड़े मामा का परिवार भी पटना से आया था सब तो चले गये लेकिन उनकी बड़ी बेटी शीला यही रुक गई थी शीला के बारे मे मैने सुना तो था, लेिकन देखा तो आँख खुली रह गई । वह प्राची बुआ से एक साल छोटी थी , लेिकन शरीर से पूरी जवान औरत िदखती थी। सच कहूँ तो मैं क्या कोई भी उन्ह देखता होगा तो उनकी छातियो पर ही उसका ध्यान जाता होगा। मने सोचा! जैसे दो मटके सामने बाँध िदये गये हो। पहली बार वह जब िमली तो उन्होने स्कटर् और टॉप पहन रक्खी थी। मैं उन्हे देखकर देखता ही रह गया। उन्ह भी शायद इस बात का अनुमान हो गया, क्योंकि उन्होने उसी समय प्राची मौसी की तरफ देखकर कु छ उनके कान मे कहते हुए मुस्कु राने लगी । तभी प्राची मौसी की चुनरी गिर गयी। मेरे सामने ही। शीला ने उसे लेकर अपने कधे पर डाल िलया और जोर से हँस पड़ी। शाम तक मैं उनसे भी घुल-िमल गया। रात को खाने मे नानी ने ढेर सारे पकवान बनाये थे। खाना खाकर हम सग आँगन मे लेटने गये। बहुत देर तक बात होती रही। शीला दीदी की चारपाई पर मैं प्राची मौसी बैठे। नानी और नौकरानी सुिखया नानी भी वह थी। बात करते करते शीला और प्राची मौसी दोनो ही मुझे घौल-धप्पे लगाने लगी । बैठे-बैठे जब मैं थक गया तो मैं उसी चारपायी पर अधलेटा हो गया। मेरा पैर प्राची मौसी की कमर से लग गया, न जानेकिस भावना के तहत मैने वहाँ से पैर को हटाया नही , बिल्क एकाध बार अँगूठे से उनकी कमर को खोद भी िदया। दूसरी तरफ शीला दीदी भी अधलेटी हुईं तो उनका पैर मेरी दोनो टाँग के बीच मे आ गया। मने जानबूझकर आगे खिसक कर अपने लंड से उनके पैर का स्पर्श करा दिया । उन्ह ने पहले तो अपने पैर को पीछेकिया, लेिकन िफर आगे कर दिया । उनका पैर रह-रहकर मेरे लिंग से स्पर्श करने लगा, लेिकन मने अपनी साँसे रोकरक स्वयं को स्थिर कर िलया , मगर उसके तनाव को भला कै से रोक सकता था? उस समय मैं सिर्फ़ पैजामा पहने था। असल मे अभी तक पेंट या पैजाम के नीचे चड्धि पहनता ही नही था अपने पैर को एक बार िसमेटकर िफर फै लाया तो उनके पैर का पंजा एकदम से मेरे तने िलग के ऊपर आ गया। उन्ह ने हटाया नही । मेरी हालत खराब होने लगी, िफर भी हिम्मत करके मने अपनी पोजीशन बदली नही । उन्होने प्राची बुआ से कु छ धीरे से कहा तो वह मेरी तरफ आ गई और मेरे बालो मे अँगुिलया डालकर फेरने लगी वो पहले भी ऐसा करती थी, लेिकन इस बार मेरे अन्दर एक अजीब सी मदहोशी छाने लगी। मने भी हिम्मत करके एक हाथ उनकी जाँघ पर इस तरह रख दिया मानो ऐसा अनजाने मे हुआ हो। दूसरे दिन हम लोग सुबह ही बाग रखवाली के लिए निकले। रंजन काका जोकि हमारा ट्रेक्टर भी चलाते थे उनका परिवार ही बाग की रखवाली करता था, लेिकन अब हम लोग के कारण वह लोग नही आने वाले थे। यहा अभी आम के पकने मे काफी दिन थे, लेकिन आमियो की तो देखभाल करनी थी। बाग मे एक छप्पर था। जिसे लू और हवा से बचने के लिए तीन तरफ से घेर दिया गया था। असल बात तो यह थीकि रखवाली तो बस नाम की थी, वरनाकिसी की इतनी हिम्मत नही थी िक बाग की तरफ आँख उठाकर देखे। प्राची मौसी घर के काम को समेटकर आने वाली थी , मैं और शीला दी पहले िनकल गये। बाग घर से दूर था। प्राची मौसी हम लोग का खाना लेकर रंजन काका के साथ आने वाली थी । उनको खेत की िसचाई के लिए पंप चलाना था। उनकी पत्नी वहाँ पहले से ही थी । गाँव की सीमा से िनकलते ही शीला दी ने कहा, ”मंथन तुम बड़े हो गये हो।” मैं चुप रहा। उनकी तरफ देखने लगा। और उनके साथ चल रहा था। उन्होने अचानक मेरे बिल्कुल िनकट आकर हाथ बढ़ाकर मेरे लिंग को पैजाम के ऊपर से छू ते हुए कहा, ”बहुत कड़ा रहने लगा है। मैं तो उनके इस स्पर्श से िसहर सा उठा।आप लोग यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है | जैसे किसी ने करं ट का झटका दे दिया हो। उन्होने फिर कहा, ”किसी बिल मे गया?” हालांिक मैं समझ गया कि वह क्या कहना चाह रही थी , लेिकन मैने बुद्धू बनते हुए कहा, ”मै समझा नही आज कलके लड़के बड़े हरामी होते हैं मेरे जी मे आया की काहु लड़किया लेकिन कहा नही अभी तक किसी लड़की के किए हो मैं अंजान बनते हुए बोला क्या उन्होने मेरे लिंग को छुआ तो वो और कड़ा हो चुका था वो बोली-बुद्धू ना बनाओ मैं समझ गया की मेरी चोरी पकड़ी गई है मुझे थोड़ी सी शरम भी आ रही थी फिर मैने सोचा बेटा तूने अगर की शरम तो फूटेंगे तेरे करम ,, मैं बोला आपका मतलब चुदाई …अभी नही …. सपने मे तो बहुत बार निकल जाता है क्या…………..? बीज ,, हमारे यहाँ जो सपने मे निकलता है उसे बीज कहते है ,, जहाँ से निकलता है वो जगह दिखाओ ” शीला दीदी ने इधर उधर देखते हुए कहा ;; यहाँ कोई नही देखेगा चारो तरफ सुनसान था मई मे तो सुबह से ही गर्मी शुरू हो जाती है ” मुझे शरम आती है ” ”मुझसे क्या शरमाना ‘ कोई जान जाएगा की मैने अपना ये दिखाया है तो मेरी खैर नही ” मैने अपने लिंग की तरफ इशारा करते हुए कहा ‘…

कहानी जारी है…. आगे की कहानी पढ़ने के लिए निचे दिए गये पेज नंबर को क्लिक करे ….

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *