अपने दोस्त की बीवी की गर्मी मैंने शांत की 1

अपने दोस्त की बीवी की गर्मी मैंने शांत की 1

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम कैलाश है और यह मेरी इस साईट पर पहली कहानी Antarvasna Kamukta Hindi sex Indian Sex Hindi Sex Kahani Hindi Sex Stories Antarvasna1.com है जो में आप सभी के साथ शेयर करना चाहता हूँ। मै उज्जैन से हूँ और यह कहानी मेरे दोस्त निलेश और उसकी पत्नी लवली की है, अब में आपको लवली के बारे में बताता हूँ, वो एक स्मार्ट बोल्ड सेक्सी हाउस वाईफ है।

वो अपने पति से संतुष्ट नहीं थी, जो हमेशा काम में बिज़ी रहता था और लवली हमेशा दुनिया घूमना चाहती थी, जो निलेश उसे नहीं दिखा पा रहा था। हम हमेशा आपस में मिलते थे, लवली मुझसे बड़ा खुश रहती थी, क्योंकि उसे पता था कि मै हमेशा उसकी हेल्प करता था।

ये कहानी कुछ ऐसे स्टार्ट होती है कि एक बार उन दोनों ने मुझे खाने पर बुलाया। टाईम रात 9 का फिक्स था। जब हम साथ में डिनर लेते थे तो निलेश और में हमेशा ड्रिंक करते थे, घर में उसकी भी व्यवस्था थी। अब में उनके घर गया और डोर बेल बजाई तो देखा कि लवली ने नेट वाली साड़ी पहनी थी, लवली एक खूबसूरत लेडी थी और मेरे दोस्त की बीवी थी, जिसके बूब्स 36C थे, कमर 32 और हिप्स 38 थे।

अब मुझे उसकी नेट की साड़ी में उसके पल्लू के बीच में से क्लीवेज अच्छे से दिख रही थी। अब में चाहकर भी अपना ध्यान नहीं हटा पा रहा था। अब मेरे पूछने पर उसने बताया कि निलेश लेट आयेगा, उसको जरूरी काम की वजह से रुकना पड़ रहा था।

अब मेरे कॉल करने पर उसने कहा कि कैलाश घर मत आना आज का प्लान केन्सिल करते है। तब मै उसे इससे पहले बताता कि में उसके घर पर हूँ, तो उसने कॉल काट दिया, हो सकता है वो काम में ज्यादा बिज़ी हो, लेकिन कुछ देर के बाद लवली के फोन पर भी मैसेज था, जानू प्लान केन्सिल मै जल्दी आ जाऊंगा लव यू, इसके बाद मैंने लवली के चेहरे पर कुछ शरारती सी हंसी देखी तो मैंने उससे कहा।

कैलाश – चलो भाभी अब में जाता हूँ, दोस्त तो काम में बिज़ी हो गया है।

लवली – अरे, तो क्या? खाना तो तैयार है ना खाकर जाओ।

कैलाश – ना यार मूड खराब करता है, आज आपका पति ड्रिंक के मूड में था।

लवली – तो क्या चलो आज हमारे साथ लो? आपके दोंस्त तो हमें कभी नहीं पिलाते, आप पिलाओ।

यह कहकर लवली ने अपने पैर क्रॉस किए, अब उसकी जांघे देखकर मेरा लंड खड़ा हो रहा था, सोचा कैसे बताऊँ उसको मेरी फीलिंग? लेकिन डर था कि कहीं ग़लत ना ले ले।

कैलाश – रहने दो भाभी, आप कहाँ पीते हो?

लवली – इच्छाये तो बहुत है, लेकिन वो कहाँ पूरी करते है।

कैलाश – चलो, आज हम आपको कुछ नया ड्रिंक बनाकर पिलाते है।

अब लवली गर्म हो चुकी थी और कहा कि चलो बहुत टाईम है धीरे-धीरे ड्रिंक लेते है। अब हमने माहौल को इन्जॉय करने के लिए लाईट कम की और स्लो म्यूज़िक लगाया, अब हम सोफे पर साथ बैठकर पी रहे थे, अब कुछ तीन पैग पीने के बाद वो हल्के नशे में थी। आप ये कहानी डॉट नेट पर पढ़ रहे है।

कैलाश – क्या हुआ भाभी? आप सो जाओ, आपको दारू चढ़ गयी है।

लवली – नहीं बातें करते है, मेरी बड़े टाईम से इच्छा थी कि में तुमसे बातें करूँ।

इतना कहकर उसने मेरे कंधे पर और फिर कंधे से मेरी गोद में अपना सर रखा और बोली कि मै ऐसे लेट जाऊं तो बुरा नहीं मानोगे ना।

कैलाश – नहीं, अब इतना कहकर में उसके बालों से खेलने लगा।

लवली – तुम इतने प्यारे हो, तुम्हारे साथ कितना अच्छा लगता है।

कैलाश – आप भी बहुत प्यारी हो, निलेश की किस्मत कितनी अच्छी है।

इतनी बातें चल रही थी कि मैंने देखा की लवली का पल्लू नीचे गिरा था, अब उसकी आँखें बंद थी, अब उसके बूब्स उसके ब्लाउज से बाहर लटक रहे थी, जो बड़े गोरे और मिल्की लग रहे थे। अब मेरे लंड से धीरे-धीरे पानी निकल रहा था।

फिर मैंने सोचा कि कही मेरे इरादे और ना बिगड़ जाए तो में उनका पल्लू सही करने लगा। अब में पल्लू सही करता, इतने में लवली ने समझ लिया था कि उसकी सीट के नीचे मेरा लंड जवान हो रहा है, अब वो मस्ती के मूड में आ गयी थी। फिर लवली सीधी बोली कैलाश तुम कब से मेरे बूब्स को देख रहे हो तो फिर पल्लू ऊपर क्यों रखा?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *